Pork से बनी Corona Vaccine को लेकर 9 मुस्लिम संगठनों का एतराज, कहा- China में बनी वैक्सीन का नहीं करेंगे इस्तेमाल

0
1


चाईना में बनने वाली कोरोना वैक्सीन का इस्तेमाल मुस्लिम नहीं करेंगे- मुस्लिम संगठन

Coronavirus Vaccine : बुधवार को 9 मुस्लिम संघटनों (Muslim Organizations) ने एक मीटिंग में फैसला लिया है कि चीन (China) में बनने वाली कोरोना वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) का इस्तेमाल मुस्लिम नहीं करेंगे.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    December 24, 2020, 7:10 AM IST

मुंबई. बुधवार को 9 मुस्लिम संघटनों (Muslim Organizations) ने एक मीटिंग में फैसला लिया है कि चीन (China) में बनने वाली कोरोना वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) का इस्तेमाल मुस्लिम नहीं करेंगे. मुस्लिम संघटनों को कहना है कि चाइना की वैक्सीन में सुअर (Pork) का इस्तमाल हुआ है और सुअर मुसलमानों के लिए हराम होता है. इसलिए चीन निर्मित वैक्सीन का इस्तेमाल न करें. बता दें कि कोरोना वैक्सीन में सुअर की चर्बी के इस्तेमाल की अफवाह के बीच मुस्लिम संगठनों का विरोध और समर्थन की बात सामने आ रही है. कुछ दिन पहले ही संयुक्त अरब अमीरात की फतवा काउंसिल (UAE Fatwa Council) ने फतवा जारी कहा था कि यदि वैक्सीन में सुअर की चर्बी का इस्तेमाल भी हो रहा है तो भी लोगों की जान बचाने के लिए इसका टीका लगवाना इस्लाम में जायज है.

चाइन की वैक्सीन का इसलिए नहीं करेंगे इस्तेमाल
मुस्लिम संगठनों के महासचिव मो. सैय्यद नूरी ने बुधवार को मुंबई में कहा, ‘हमारे लोगों कि मीटिंग हुई है, जिसमें 9 संघटन शामिल हुए. हमें पता चला है कि चाईना में एक वैक्सीन बनाई है, जिसमें सुअर के बाल, चर्वी या उसके मांस का इस्तमाल हुआ है. मुसलमानों में सुअर पूरी तरह से हराम है. अगर सुअर का एक बाल भी कुएं में गिर जाता है तो पूरा कुआं ना-पाक हो जाता है. इसलिए यह तय हुया है कि चाईना वाली वैक्सीन का इस्तेमाल हम नही करेंगे.

Islamic body, pork use, Muslim Organizations, china, chin, gelatin, Corona Vaccine, UAE, Pork, UAE Fatwa Council, संयुक्त अरब अमीरात, इस्लामी निकाय, यूएई फतवा काउंसिल, कोरोना वैक्सीन, टीकों में सुअर के मांस, जिलेटिन, यूएई, कोरोना वायरस टीका, पोर्क का इस्तेमाल, 9 मुस्लिम संघटनों की मीटिंग में फैसला, चीन निर्मित वैक्सीन का इस्तेमाल नहीं,मुस्लिम संघटनों को कहना है कि चाइना की वैक्सीन में सुअर (Pork) का इस्तमाल हुआ है

मुस्लिम संघटनों को कहना है कि चाइना की वैक्सीन में सुअर का इस्तमाल हुआ है.

भारत में भी कई वैक्सीन का ट्रायल अंतिम चरण में
बता दें कि भारत में भी कई वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है. इधर बुधवार को एक बार फिर से हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने भारत के ड्रग कंट्रोलर जनरल (डीजीसीआई) के साथ अपने कोविड-19 वैक्सीन कोवैक्सीन (Covavxine) के आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण के लिए आवेदन किया है. यह वैक्सीन वर्तमान में 1,000 वॉलेंटियर्स के साथ चरण I और II परीक्षणों को पूरा करने के बाद भारत भर में 25 केंद्रों पर 26,000 वॉलंटियर्स पर तीसरे चरण के ह्यूमन ट्रायल्स कर रहा है.

कई कंपनियों ने डीसीजीआई से मांगी है अनुमति
इस बीच सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने अपने कोविड -19 वैक्सीन उम्मीदवार कोविशिल्ड की सुरक्षा और इम्युनोजेनसिटी के निर्धारण के लिए डीसीजीआई द्वारा मांगा गया अतिरिक्त डेटा प्रस्तुत किया है. भारत में दिसंबर अंत से पहले आपातकालीन उपयोग के लिए कोविड -19 वैक्सीन की स्वीकृति मिलने की संभावना है, क्योंकि केंद्रीय ड्रग्स मानक नियंत्रण संगठन के विशेषज्ञ पैनल सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और फाइजर के आपातकालीन उपयोग के लिए उनके आवेदन की समीक्षा कर सकता है.

Margret Keenan, First Vaccination, Pfizer Biontech

ब्रिटेन की 90 वर्षीय दादी मार्गरेट को फाइजर का पहला टीका लगा. फोटो: AP

फाइजर वैक्सीन भी रेस में
अमेरिका की फाइजर वैक्सीन के लिए 4 दिसंबर को सबसे पहले आवेदन किया गया था, इसके बाद पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक थे, जिन्होंने 6 और 7 दिसंबर को आवेदन किया था. फाइजर ने हालांकि कमेटी के सामने प्रेजेंटेशन देने के लिए और समय देने का अनुरोध किया था.

ये भी पढ़ें: किसान आंदोलन में क्यों नहीं दिख रहे पप्पन सिंह, Lockdown में मजदूरों को फ्लाइट से घर भेज बटोरी थी सुर्खियां

सामान्य तौर पर टीकों में पोर्क जिलेटिन का इस्तेमाल होता है. इसी वजह से टीकाकरण को लेकर मुस्लिमों की चिंता बढ़ गई है. मुस्लिमों संगठनों के नेताओं का मानना है कि इस्लामी कानून के तहत पोर्क से बने उत्पादों के प्रयोग को हराम माना जाता है तो उसका टीका कैसे जायज होगा. हालांकि, कई मुस्लिम संगठनों का मानना है कि अगर कोई और विकल्प नहीं है तो कोरोना वायरस टीकों को इस्लामी पाबंदियों से अलग रखा जा सकता है. पहली प्राथमिकता मनुष्य का जीवन बचाना है.





Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here