J&K का विशेष दर्जा वापस दिलाने पर PM मोदी से चर्चा करना चाहते थे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ: कांग्रेस

0
4


श्रीनगर. कांग्रेस ने रविवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर को लेकर बीते 24 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हुई बैठक में वे पांच अगस्त से पहले राज्य को उसका विशेष दर्जा देने देने को लेकर बात करना चाहते थे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

जम्मू-कश्मीर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गुलाम अहमद मीर ने कहा, ‘हम इस बात पर चर्चा करना चाहते थे कि पांच अगस्त से पहले जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा वापस मिल जाए, लेकिन इसका कोई मतलब नहीं था क्योंकि केंद्र सरकार ने अपना मन बना लिया है. इस मामले को न्यायपालिका के जरिए सुलझाया जाएगा. वर्तमान में हमारा एक ही लक्ष्य है कि जम्मू-कश्मीर को पूर्ण राज्य का दर्जा मिले.’

J&K News: अनुच्छेद 370 पर पीछे हट रहे हैं कश्मीरी नेता? जानें क्या बोले उमर अब्दुल्ला

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते 24 जून को जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों सहित आठ विभिन्न दलों के 14 नेताओं के साथ चली करीब साढ़े तीन घंटे की सर्वदलीय बैठक की अध्यक्षता की थी, जिसमें अधिकांश नेताओं ने पूर्ण राज्य का दर्जा बहाल करने और विधानसभा चुनाव कराने की मांग उठाई. ज्ञात हो कि पांच अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के अधिकांश प्रावधान हटाए जाने के बाद राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया गया था.

वर्ष 2019 में अनुच्छेद 370 निरस्त किए जाने और जम्मू कश्मीर को दो केंद्रशासित प्रदेशों में विभाजित किए जाने के बाद से यह केंद्र और जम्मू कश्मीर की मुख्यधारा के राजनीतिक नेताओं के बीच पहली बैठक थी. 24 जून को नई दिल्ली में जम्मू-कश्मीर को लेकर हुई सर्वदलीय बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, नेशनल कांफ्रेंस के फारूख अब्दुल्ला, उनके पुत्र उमर अब्दुल्ला, पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की महबूबा मुफ्ती और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद सहित चार पूर्व मुख्यमंत्रियों ने हिस्सा लिया था.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here