IPL 2020: डिविलियर्स को छठे नंबर पर उतारकर फंस गए विराट कोहली! बाद में दी सफाई

0
1


विराट कोहली और एबी डिविलियर्स (फोटो- RCB)

IPL 2020 : सवाल उठता है कि आखिर विराट ने ये गलती कैसे कर दी. क्या विराट कोहली पंजाब के लेग स्पिनर से डर गए थे?

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 16, 2020, 5:42 PM IST

शारजाह. रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB) यानी विराट कोहली (Virat Kohli) की टीम किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ पिछली हार का बदला नहीं ले सकी. उनकी टीम को एक बार फिर से पंजाब के हाथों करारी हार का सामना करना पड़ा. गुरुवार को शारजाह में पंजाब ने आरसीबी को 8 विकेट से हरा दिया. इस मैच में हर कोई विराट की कप्तानी पर सवाल उठ रहा है. किसी को समझ नहीं आ रहा है कि आखिर टी-20 के विस्फोटक बल्लेबाज़ एबी डिविलियर्स (AB de Villiers) को छठे नंबर पर बैटिंग के लिए क्यों उतारा गया?

विराट के फैसले पर सवाल?
तीन दिन पहले ही डिविलियर्स ने शारजाह के इसी मैदान पर कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ रनों की सुनामी ला दी थी. उन्होंने सिर्फ 33 गेंदों पर 73 रनों की नाबाद ताबड़तोड़ पारी खेली थी. वो इस मैच में चौथे नंबर पर बैटिंग के लिए आए थे. लेकिन पंजाब के खिलाफ विराट कोहली ने उन्हें छठे नंबर पर बैटिंग के लिए भेजा. डिविलियर्स छठे नंबर पर उस वक्त बैटिंग के लिए आए जब आरसीबी का स्कोर 4 विकेट के नुकसान पर 127 रन था. लिहाजा वो 5 गेंदों पर सिर्फ 2 रन बनाकर आउट हो गए. डिविलियर्स 17वें ओवर में बैटिंग के लिए आए. जबकि विराट उन्हें 7वें या फिर 11वें ओवर में बैटिंग के लिए बुला सकते थे. लेकिन ऐसा हुआ नहीं. आईपीएल में 6 साल बाद ये पहला मौका था जब डिविलियर्स को नीचे बैटिंग के लिए भेजा गया हो.

लेग स्पिनर से डर गए विराट!
सवाल उठता है कि आखिर विराट ने ये गलती कैसे कर दी. जानकारों के मुताबिक, ऐसा प्रतीत होता विराट कोहली पंजाब के लेग स्पिनर से डर गए थे. आंकड़ों पर नजर डालें तो साल 2018 के आईपीएल से लेकर अब तक डिविलियर्स 8 बार और विराट 6 बार लेग स्पिनर का शिकार हुए हैं. ऐसे में पंजाब ने इस मैच के लिए मुरुगन अश्विन और रवि बिश्नोई को मौका दिया. विराट कोहली पंजाब की इस चाल में फंस गए.

विराट की सफाई
विराट ने बाद अपने इस फैसले पर सफाई देते हुए कहा कि राइट और लेफ्ट कॉम्बिनेशन को ध्यान में रखकर ये फैसला लिया गया. उन्होंने कहा, ‘बाहर से हमें मैसेज आया था कि हमें राइट और लेफ्ट कॉम्बिनेशन रखना है. दरअसल उनके पास दो लेग स्पिनर थे. देखिए कई बार आपके फैसले नतीजों में नहीं बदलते हैं. फिर भी 170 से ज्यादा का स्कोर अच्छा था.’





Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here