COVID-19: सिंगापुर के इंटरनेट यूजर्स के निशाने पर अरविंद केजरीवाल, ‘गलत सूचना फैलाने’ का लगाया आरोप

0
11


दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल प्रेस कॉन्‍फ्रेंस करते हुए. (फाइल फोटो)

Coronavirus Variant: सोशल मीडिया पर सिंगापुरवासियों की गुस्से से भरी प्रतिक्रियाएं केजरीवाल के ट्वीट पर आईं जिसमें उन्होंने कहा है कि सिंगापुर में पाया गया कि कोरोना का नया स्वरूप भारत में तीसरी लहर लेकर आ सकता है.

सिंगापुर. सिंगापुर में इंटरनेट उपयोक्ता ने देश में कोरोना वायरस का ‘बहुत खतरनाक’ स्वरूप व्याप्त होने के दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के दावे की आलोचना की है और उनपर ‘गलत सूचना फैलाने’ का आरोप लगाते हुए माफी की मांग की है. साथ ही इसमें तथ्य जांच की सिफारिश की है. सोशल मीडिया पर सिंगापुरवासियों की गुस्से से भरी प्रतिक्रियाएं केजरीवाल के ट्वीट पर आईं जिसमें उन्होंने कहा है कि सिंगापुर में पाया गया कि कोरोना वायरस का नया स्वरूप भारत में तीसरी लहर लेकर आ सकता है. कोरोना वेरिएंट को लेकर बयान पर बवाल, मनीष सिसोदिया बोले- केंद्र को बच्चों की नहीं, सिंगापुर की चिंता दिल्ली के मुख्यमंत्री ने मंगलवार को ट्वीट किया था, ‘सिंगापुर में कोरोना वायरस का नया स्वरूप बच्चों के लिए बहुत खतरनाक बताया जा रहा है. यह तीसरी लहर के रूप में दिल्ली पहुंच सकता है. मेरी केंद्र सरकार से अपील है, 1. तत्काल प्रभाव से सिंगापुर से सभी हवाई सेवाएं रद्द करें, 2. प्राथमिकता के आधार पर बच्चों के लिए टीका विकल्पों पर काम करें.’केजरीवाल के बयान पर सिंगापुर ने जताई आपत्ति, केंद्र ने कहा- CM को इस पर बोलने का हक नहीं केजरीवाल के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए, सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार रात को कहा, ‘खबरों में जो भी दावे किए जा रहे हैं उनमें कोई सच्चाई नहीं है.’ इसने एक बयान में कहा, ‘वायरस को कोई सिंगापुरी स्वरूप नहीं है. हाल के हफ्तों में कोविड-19 के कई मामलों में जो स्वरूप दिख रहा है वह बी.1.617.2 है जिसकी उत्पत्ति भारत में हुई थी. वंशावली परीक्षण में इस बी.1.617.2 प्रकार को सिंगापुर में वायरस के कई क्लस्टरों के साथ जुड़ा हुआ पाया गया है.’

सिंगापुर के प्रख्यात ब्लॉगर एम ब्राउन ने लिखा, ‘दिल्ली के मुख्यमंत्री. बी1617 स्वरूप आपके देश से आया है.’ हैंडल ‘अंतराअनेजा’ से एक ट्विटर उपयोक्ता ने कहा कि सिंगापुर के स्कूल बी.1.617.2 स्वरूप की वजह से बंद हैं, ‘असल में तथ्य की जांच और गलत सूचना फैलाने के लिए माफी मांगी जानी चाहिए.’ सिंगापुर के विदेश मंत्री विवियन बालाकृष्णन ने बुधवार को ट्वीट किया कि, ‘नेताओं को तथ्यों पर टिके रहना चाहिए. वायरस का कोई सिंगापुरी स्वरूप नहीं है.’







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here