Covid-19: राजस्थान में कोरोना को लेकर सख्ती बढ़ने की संभावना, CM गहलोत ने दिए ये निर्देश

0
1


प्रदेश में कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों को लेकर सरकार चिंतित है. (फाइल फोटो)

मुख्यमंत्री निवास पर शनिवार को हुई कॉविड (Covid-19) समीक्षा बैठक में विशेषज्ञों ने कई सुझाव दिए हैं, जिनके आधार पर आज से ही सख्ती बढ़ाई जा सकती है.

जयपुर. राजस्थान में कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर सख्ती बढ़ने की संभावना है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Chief Minister Ashok Gehlot) ने सख्ती बढ़ाने के संकेत दिए हैं. मुख्यमंत्री निवास पर शनिवार को हुई कॉविड समीक्षा बैठक में विशेषज्ञों ने कई सुझाव दिए हैं, जिनके आधार पर आज से ही सख्ती बढ़ाई जा सकती है. बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने स्पष्ट तौर पर कहा कि लोग स्वयं हेल्थ प्रोटोकॉल (Health protocol) की पालना करें. अन्यथा सरकार सख्ती करेगी. विशेषज्ञों और अधिकारियों ने आगामी दिनों में सख्त कदम उठाने के सुझाव बैठक में दिए, जिन्हें जल्द ही प्रदेश लागू किया जा सकता है.

खास तौर से ये सुझाव बैठक में दिए गए
>>वैवाहिक और  सामाजिक आयोजनों में उपस्थित व्यक्तियों की संख्या 50 किए जाने का सुझाव.
>>रात्रिकालीन कर्फ्यू की अवधि शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक की जाए.>>ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में धार्मिक मेलों, उत्सवों, जुलूस आदि पर रोक लगाने का सुझाव.
>>सरकारी कार्यालयों की तर्ज पर निजी कार्यालयों में उपस्थिति 75 प्रतिशत की जाए.

>>रेस्टोरेंट आदि में केवल टेक-अवे’ की सुविधा की अनुमति दी जाए.
>>कोचिंग संस्थानों में कक्षाओं पर रोक लगाने का सुझाव.
>>स्कूलों और शैक्षणिक संस्थानों में विद्यार्थियों को केवल परीक्षा के लिए प्रवेश दिया जाए.
>>बसों और अन्य सार्वजनिक वाहनों में यात्रियों की संख्या 50 प्रतिशत करने का सुझाव.

उनका सहयोग लेना सुनिश्चित करें
दरअसल, प्रदेश में कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों को लेकर सरकार चिंतित है और बैठक में आए इन सुझावों को जल्द ही लागू किए जाने की संभावना है. बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अधिकारियों को कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाने के भी निर्देश दिए . उन्होंने कहा कि सभी जिलों में स्थानीय प्रशासन क्षेत्र के प्रभावशाली लोगों के साथ बैठकर समझाइश की जाए. अगले एक-दो दिन में सभी कलेक्टर व्यापारी एवं व्यवसायिक संगठनों, धार्मिक स्थलों के प्रबंधकोंऔर अन्य प्रभावशाली लोगों के साथ बैठकें करें. पुलिस अधिकारी भी थाने के स्तर तक कम्युनिटी लाइजन ग्रुप के सदस्यों के साथ  बैठकें करे और कोविड प्रोटोकॉल की पालना में उनका सहयोग लेना सुनिश्चित करें.

केंद्र सरकार पर निशाना साधा है
मुख्यमंत्री ने कहा कि उदयपुर में हर तीसरा व्यक्ति संक्रमित पाया जा रहा है और यहां पॉजिटीविटी दर 30 प्रतिशत तक पहुंच चुकी है. शहर के अस्पतालों में 66 प्रतिशत आईसीयू और ऑक्सीजन बेड पर मरीज भर्ती हैं. कोटा, जोधपुर और जयपुर में भी संक्रमण की गति काफी तेज है. वहीं,  मुख्यमंत्री ने वैक्सीन की समय पर आपूर्ति नहीं होने को लेकर भी एक बार फिर से केंद्र सरकार पर निशाना साधा है.







Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here