Career in Yoga: इन कोर्सेस के बाद योग की फील्ड में बना सकते हैं शानदार करियर

0
3



<p style="text-align: justify;">इन दिनों योग का क्रेज बुजुर्गों ही नहीं युवाओं के सिर चढ़कर बोल रहा है. शरीर को चुस्त-दुरूस्त रखने के लिए विश्व स्तर पर योग को एक उम्मीद की किरण के तौर पर देखा जा रहा है. वैसे भी महामारी काल में योग का महत्व काफी बढ़ गया है. डॉक्टरों का भी कहना है कि योग से मानसिक और शारीरिक तनाव से मुक्ति मिलती है. योग की बढ़ती पॉपुलरिटी की वजह से इस फील्ड में करियर की भी अपार संभावना बढ़ गई है. दरअसल मौजूदा समय में योग का दायरा देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर में बढ़ रहा है इसलिए योग प्रोफेशनल्स की डिमांड भी दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है. बता दें कि योग के क्षेत्र में करियर बनाना आज एक बेहतरीन विकल्प बन चुका है.</p>
<p style="text-align: justify;">12वीं पास या ग्रेजुएशन की डिग्री के बाद योग को प्रोफेशन के तौर पर लेने की शुरूआत की जा सकती है. जो लोग योग में करियर बनाना चाहते हैं उन्हें बता दें कि इसके लिए कई डिग्री, डिप्लोमा और सर्टिफिकेट व शॉर्ट टर्म कोर्स उपलब्ध हैं. चलिए जानते हैं योग में करियर बनाने के इच्छुक कैंडिडेट्स इस फील्ड के लिए क्या कोर्स कर सकते हैं.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>योग में करियर बनाने के लिए करें ये कोर्स</strong></p>
<p style="text-align: justify;"><strong>1-योग में करें बीएससी</strong></p>
<p style="text-align: justify;">12वीं करने के बाद जो छात्र योग के क्षेत्र में करियर बनाना चाहते हैं वे बीएससी इन योग कर सकते हैं. ये 3 साल का डिप्लोमा कोर्स होता है. इसमें योग साइंस. शरीर की रचना, बॉडी और मन पर योग के प्रभाव के बारे में डिटेल में पढ़ाया जाता है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>2- योग में करें डिप्लोमा कोर्स</strong></p>
<p style="text-align: justify;">योग में डिप्लोमा कोर्स भी किया जा सकता है. ये एक शॉर्ट टर्म कोर्स होता है. इसे 12वीं के बाद किया जा सकता है. डिप्लोमा कोर्स इन योग में नेचुरोपैथी, मेंटल हेल् आदि विषयों को पढ़ाया जाता है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>3- योग में </strong><strong>MSc</strong><strong> करें</strong></p>
<p style="text-align: justify;">योग की फिल्ड में करियर बनाने के इच्छुक कैंडिडेट्स ग्रेजुएशन के बाद एमएससी इन योग कोर्स कर सकते हैं. एमएससी इन योग कोर्स में स्टूडेंट्स को एनाटॉमी, फिजियोलॉजी, उपनिषद, वेद, योग थेरेपी, प्राचीन पाठ जैसे भगवद् गीता, योग सूत्र आदि बहुत कुछ पढ़ाया और सीखाया जाता है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>4- योग में सर्टिफिकेट कोर्स करें</strong></p>
<p style="text-align: justify;">योग में सर्टिफिकेट कोर्स भी उपलब्ध है. ये एक शॉर्ट टर्म कोर्स होता है. इस कोर्स में 200 घंटे, 300 घंटे और 500 घंटे के पाठ्यक्रम होते हैं. इसे अंशकालिक (टीचर ट्रेनिंग) टीटीसी कार्यक्रम है. इस सर्टिफिकेट कोर्स में स्टूडेंट्स को टीचिंग पहलुओं के साथ ही योग साइंस भी पढ़ाया जाता है और सर्टिफिकेट भारत के मान्यता प्राप्त संस्थान द्वारा दिया जाता है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>5-PG</strong><strong> डिप्लोमा इन योग साइंस</strong></p>
<p style="text-align: justify;">पीजी डिप्लोमा इन योग साइंस एक दो वर्षीय कोर्स है. इस प्रोग्राम में एडमिशन के लिए छात्रों के पास मिनिमम स्नातक की डिग्री होना अनिवार्य है. इस कोर्स के दौरान स्टूडेंट्स को योग साइंस की डीप स्टडी कराई जाती है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>6-</strong><strong>योग टीचर ट्रेनिंग कोर्स</strong></p>
<p style="text-align: justify;">योग टीचर ट्रेनिंग कोर्स के बाद स्टूडेंट्स प्रोफेशनल की तरह योग सिखा सकते हैं. ध्यान दें कि योग का अनुभवात्मक, शैक्षणिक और व्यावहारिक ज्ञान दूसरों को सिखाने से पहले खुद में होना चाहिए और ऐसा कोर्स करने के बाद ही मिलता है. बता दें कि टीचर ट्रेनिंग कोर्स 3 महीने, 6 महीने से लेकर 1 साल तक का हो सकता है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>7-</strong><strong>योग में </strong><strong>BA</strong></p>
<p style="text-align: justify;">स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद योग में बीए किया जा सकता है. इस कोर्स के दौरान योग के विस्तृत पहलू को सीख सकते हैं. इस प्रोग्राम के दौरान स्टूडेंट्स को लाइफ स्टाइल के लिए आयुर्वेद की मूल बातें और अन्य प्राचीन विज्ञान के बारे में नॉलिज दी जाती है. इस कोर्स की अवधि तीन वर्ष है.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>8-</strong><strong>योग में बीएड</strong></p>
<p style="text-align: justify;">इस कोर्स को वे लोग कर सकते हैं जो कॉलेज और यूनिवर्सिटी में योग को एकेडमिक विषय के रूप में पढ़ाने के इच्छुक हैं. योग में बीएड करने के ले 12वीं पास होना जरूरी है.</p>
<p><strong>भारत में यहां से करें योग में मास्टर्स से लेकर शॉर्ट टर्म कोर्स</strong></p>
<p>मोरारजी देसाई नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ योग, दिल्ली- ग्रेजुएशन के बाद यहां से 3 साल का बीएससी योगा साइंस, 1 साल का डिप्लोमा और पार्ट टाइम योग के कोर्स किए जा सकते हैं. देव संस्कृति विश्वविद्यालय, हरिद्वार, उत्तराखंड- यहां से योग में बीएससी से लेकर पीएचडी तक के कोर्स किए जा सकते हैं. बिहार योग भारती, मुंगेर से योग में 4 महीने और 1 साल का कोर्स किया जा सकता है. ईशा हठ योग स्कूल, कोयंबटूर भी योग में कोर्स ऑफर करता है. पतंजलि इंटरनेशनल योग फाउंडेशन ऋषिकेश, उत्तराखंड से योग में कई कोर्स कर सकते हैं. वहीं कैवल्यधाम लोनावाला, महाराष्ट्र से भी योग में कई कोर्स कर सकते हैं. विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी, विवेकानंदपुरम, कन्याकुमारी से योग में कई प्रोग्राम में एडमिशन लिया जा सकता है. योग संस्थान सांताक्रूज मुंबई सहित राजर्षि टंडन विश्वविद्यालय, उत्तर प्रदेश, देव संस्कृति विश्वविद्यालय, उत्तराखंड आदी कई संस्थान योग में कोर्स ऑफर करते हैं.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>ये भी पढ़ें</strong></p>
<p style="text-align: justify;"><strong><a href="https://www.abplive.com/news/india/mann-ki-baat-pm-narendra-modi-o-address-his-monthly-radio-programme-today-these-issues-can-be-discussed-1932488">Mann Ki Baat: PM मोदी 11 बजे करेंगे ‘मन की बात’, &nbsp;इन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा</a></strong></p>



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here