7 महीने बाद अन्नदाता फिर दिल्ली के दर पर: टिकैत की गिरफ्तारी की अफवाह, पुलिस बोली- कार्रवाई करेंगे; किसानों को मिला राहुल का साथ

0
5


  • Hindi News
  • National
  • Rumors Of Tikait’s Arrest, Police Will Bid action; Farmers Got Rahul’s Support

नई दिल्ली/ लखनऊ/चंडीगढ़7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

किसानों की कूच से गुरुग्राम में घंटों जाम।

केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन को शनिवार को सात महीने पूरे हो गए। पुलिस ने किसानों के मार्च की आशंका से दिल्ली सीमा पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं। शनिवार को तीन मेट्रो रेलवे स्टेशन को भी बंद कर दिया था। दरअसल पश्चिम उत्तर प्रदेश के हजारों किसान दिल्ली की गाजीपुर सीमा पर आंदोलन के लिए लगातार पहुंच रहे हैं। इनका नेतृत्व भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के वरिष्ठ नेता राकेश टिकैत कर रहे हैं। वे गाजीपुर गेट पहुंच चुके हैं।

दिल्ली की दो सीमाओं टीकरी और गाजीपुर में किसानों ने डेरा जमाया है। बीकेयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत ने कहा- ‘हम अपनी मांग पर कायम हैं। केंद्र तीनों नए कृषि कानून रद्द करे।’ आंदोलन में करीब 40 किसान संगठन शामिल हैं। इनके संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने बयान जारी कर कहा- ‘देश में आपातकाल के 46 साल पूरे हो चुके हैं। आज पूरा भारत ‘खेती बचाओ, लोकतंत्र बचाओ दिवस’ मना रहा है।’

उधर, हरियाणा के पंचकूला में सैकड़ों किसानों ने मार्च निकाला। उन्होंने चंडीगढ़ में राज्यपाल के आवास का घेराव किया। इससे पहले संयुक्त किसान मोर्चा ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के नाम एक ‘रोष पत्र’ लिखा। इस पत्र में भी तीनों कृषि कानून रद्द करने की मांग की गई है। खास बात यह रही कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक बार फिर किसान आंदोलन का समर्थन किया है। राहुल ने कहा- ‘ सीधी-सीधी बात है, हम सत्याग्रही अन्नदाता के साथ हैं।’

दूसरी ओर, शनिवार को अफवाह फैली कि किसान नेता राकेश टिकैत को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस पर दिल्ली पुलिस की डीसीपी प्रियंका कश्यप ने कहा कि यह फेक न्यूज है। सोशल मीडिया पर झूठी खबर फैलाने वालों पर कार्रवाई की जाएगी।

आगे क्या: यूपी-उत्तराखंड में विधानसभा, हरियाणा में पंचायत चुनाव का बहिष्कार

उत्तर प्रदेश: संयुक्त किसान मोर्चा के नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने कहा- ‘केंद्र सरकार अब भी नहीं जागी तो आगामी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड विधानसभा चुनावों में इसका खामियाजा भाजपा को भुगतना होगा। हमने जैसे पश्चिम बंगाल के चुनाव में भाजपा को हराने की अपील की थी, ठीक उसी तरह उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भी करेंगे। हम हर महीने की 26 तारीख को ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे। अब कोरोना वायरस का संक्रमण कम हो रहा है, इसलिए आंदोलन फिर तेज करेंगे।

हरियाणा: संयुक्त किसान मोर्चा के नेता प्रदीप धनखड़ ने कहा- ‘हमने हरियाणा में आगे की रणनीति के लिए बैठक की है। इसमें तय किया गया है कि अब राजस्थान और गुजरात में भी आंदोलन तेज करेंगे।’ धनखड़ ने आरोप लगाया कि हरियाणा में किसानों की एकता तोड़ने के लिए पंचायत चुनाव की तैयारी की जा रही है। अगर किसानों की मांगें नहीं मानी गई तो पूरे हरियाणा में पंचायत चुनाव का बहिष्कार किया जाएगा।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here