7 फूड जिन्हें शामिल कर सकते हैं इको-फ्रेंडली डाइट में

0
1


खुद को स्वस्थ (Healthy) रखने के साथ अपने ग्रह को भी स्वस्थ रखना है, तो आहार के कुछ ऐसे मानक तय करने होंगे, जो अपनी सेहत के साथ-साथ पृथ्वी की सेहत के अनुकूल हों. कुछ खाद्य पदार्थों का पर्यावरण (Environment) पर वास्तव में बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है और कुछ का नहीं. बहुत सारे कारक पारिस्थितिकी तंत्र यानी इकोसिस्टम को प्रभावित करते हैं और अगर समग्र रूप से देखा जाए तो ऐसी खुराक यानी डाइट (Diet) विकसित करना संभव है, जो पर्यावरण के अधिक अनुकूल हो. myUpchar से जुड़ीं डॉ. मेधावी अग्रवाल का कहना है कि अनजाने में लोग पृथ्वी को प्रदूषित कर सकते हैं, लेकिन अगर जीवन शैली में कुछ परिवर्तन करेंगे तो पृथ्वी प्रदूषित होने से बच सकती है.

यह सुनिश्चित करने के लिए कि आहार का पृथ्वी पर कम से कम प्रभाव पड़ता है, इसका सरल तरीका है कि यह जानें कि आखिर ये खाने की चीजें आती कहां से हैं. प्रोसेस्ड फूड्स से बचना इस ग्रह के अनुकूल होने के दौरान अपने स्वयं के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने का एक शानदार तरीका है. सबसे इको फ्रेंडली फूड्स को जमीन से या एक पेड़ से सीधे उठाया जा सकता है. अगर जो फूड्स खरीदते हैं, वह किसी कारखाने से आता है, तो संभावना है कि एक टन छिपा हुआ कार्बन है जो उसके साथ आता है. इको फ्रेंडली डाइट फॉलो करने के लिए इन 7 खाद्य पदार्थों को शामिल कर सकते हैं. पर्यावरण के अनुकूल ये खाद्य पदार्थ स्वास्थ्य के लिए भी बड़े काम के हैं.

मसूर की दाल : myUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि मसूर की दाल ‘जलवायु के अनुकूल’ प्रोटीन है. यह दाल फाइबर से समृद्ध है. इसमें विटामिन ए, के, सी, बी और फोलेट जैसे पोषक तत्वों की मात्रा अधिक होती है. उनका कार्बन फुटप्रिंट बहुत कम है. जैसे बीफ की तुलना में 43 गुना कम और इसे बढ़ने के लिए बहुत कम पानी की आवश्यकता होती है. वे अन्य फसलों को उगाने में आसान बनाने के लिए मिट्टी को साफ और दृढ़ करते हैं.बीन्स : दाल की तरह बीन्स एक शाकाहारी प्रोटीन स्रोत हैं. भोजन में मीट की बजाए मुख्य प्रोटीन के रूप में फलियों को चुनना पर्यावरण पर प्रभाव को बहुत कम कर देगा. बीन्स भी फलियां परिवार का हिस्सा हैं और वे कई रंगों और आकारों में आते हैं. बीन्स में उल्लेखनीय रूप से कम कार्बन और पानी के फुटप्रिंट होते हैं और फाइबर, प्रोटीन, पोषक तत्वों से भरे होते हैं. शुष्क फलियां केवल प्रति किलोग्राम खपत के लिए वायुमंडल में लगभग 2 किलोग्राम कार्बन डाइऑक्साइड का योगदान करती हैं.

ये भी पढ़ें – पुरुषों को भी होता है ब्रेस्‍ट कैंसर, जानिए क्‍या है सच और क्‍या हैं गलत धारणाएं

आलू : आलू के पौधे प्राकृतिक कीटनाशकों और कवकनाशी का भी उत्पादन करते हैं जो सिंथेटिक रसायनों की आवश्यकता को कम करते हैं. आलू जल संबंधी फसल है, केवल 50 गैलन प्रति पाउंड (चावल की खपत 403 गैलन) होती है और इसे खराब हुए बिना लंबे समय तक संग्रहीत किया जा सकता है.

नट्स : यह एक और लो कार्बन प्रोटीन स्रोत है. प्रोटीन से समृद्ध नट्स में अमीनो एसिड जैसे आर्जीनिन पाए जाते हैं. विटामिन ई, बी6, निएसिन और फॉलिक एसिड और मिनरल्स जैसे मैग्नेशियम, जिंक, आयरन, कैल्शियम, कॉपर, पोटैशियम पाए जाते हैं.

ब्रोकली : ब्रोकली उत्पादन कम कार्बन छोड़ता है और इस पोषक तत्व से भरपूर सब्जी को सिंथेटिक कीटनाशकों के बिना उगाया जा सकता है. गोभी परिवार का एक सदस्य, ब्रोकोली ऐसे यौगिकों का उत्पादन करता है जो प्राकृतिक कीटनाशक के रूप में कार्य करते हैं.

टमाटर : स्थानीय रूप से उगाए गए, गर्मियों में पके टमाटर में कम कार्बन फुटप्रिंट है. टमाटर में न केवल एक कम कार्बन फुटप्रिंट होता है, बल्कि वे डीप रूट सिस्टम को विकसित करते हैं जो गहरी मिट्टी से नमी को अवशोषित करते हैं, जो गर्मी के महीनों में पानी की आवश्यकता को सीमित करते हैं.

ये भी पढ़ें – युवाओं में पॉपुलर है Sexting, जानें इसके फायदे और नुकसान

मटर : मटर स्वाभाविक रूप से मिट्टी में नाइट्रोजन को ठीक करता है, जिससे वे सोयाबीन के पौधों के लिए एक पर्यावरण के अनुकूल विकल्प बन जाते हैं. मिट्टी में नाइट्रोजन को ठीक करने की यह क्षमता सिंथेटिक उर्वरक की आवश्यकता को समाप्त करती है और फसल के बाद पोषक तत्वों से समृद्ध मिट्टी को छोड़ देगी. मटर के पौधे ठंडी परिस्थितियों में पनपते हैं, प्रभावी रूप से गर्म तापमान से जुड़े पानी की बर्बादी को कम करते हैं.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, पर्यावरण और अपने स्वास्थ्य को प्रदूषण से दूर रखने के लिए अपनाएं ये सरल उपाय पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।





Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here