1983 विश्व कप विजेता टीम का सबसे शैतान और साधु खिलाड़ी कौन? कपिल देव ने बताया

0
6


नई दिल्ली. भारतीय टीम ने साल 1983 में पहली बार वनडे वर्ल्ड कप (ICC World Cup 1983) जीतकर इतिहास रचा था. कपिल देव (Kapil Dev) की कप्तानी में भारत ने 25 जून 1983 को खेले गए फाइनल में तब बेहद मजबूत मानी जानी वाली वेस्टइंडीज को 43 रन से हराया था. कपिल देव ने शनिवार को बताया कि विश्व कप विजेता टीम में सबसे शैतान और शांत खिलाड़ी कौन-कौन थे. इस टीम के कई खिलाड़ियों ने न्यूज18 के विशेष कार्यक्रम ‘विश्वविजय के बाहुबली’ में शिरकत की.

इस ऐतिहासिक पल को 38 साल बीत चुके हैं. भारतीय क्रिकेट में इसके बाद ही बड़े बदलाव देखने को मिले और आज भारतीय क्रिकेटरों की गिनती दुनिया के सबसे दिग्गज खिलाड़ियों में होती है. कपिल के अलावा मोहिंदर अमरनाथ, कीर्ति आजाद, के श्रीकांत, यशपाल शर्मा, सैयद किरमानी और संदीप पाटिल समेत कई खिलाड़ियों ने इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया.

कपिल से जब टीम के सबसे शैतान खिलाड़ी के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा, ‘कौन नहीं था.’ इस बीच श्रीकांत वीडियो कॉन्फ्रेंस में ही मजाकिया लहजे में बोल पड़ते हैं- मैं नहीं था. कपिल आगे कहते हैं- हां, ये नहीं थे. फिर कहते हैं- ऐसा कुछ नहीं होता. सभी का अपना एक टेंपरामेंट होता है. मौका मिलते है तो सब और होते हैं.’

इसे भी देखें, कपिल देव ने दिलाया था पहला वर्ल्ड कप, सिर्फ 18 जीत के साथ खिताब पर किया कब्जा

62 वर्षीय इस दिग्गज ने कहा, ‘मैं इतना जरूर कहूंगा कि रोजर बिन्नी (Roger Binny) ऐसे खिलाड़ी थे, जो थोड़े से साधु की तरह थे. उनको समझ नहीं आएगा कि मैं क्या बोल रहा हूं हिंदी में. बड़े शांत और साधु जैसे आदमी. मैंने आज तक कभी उनके चेहरे पर गुस्सा नहीं देखा. मैंने कभी नहीं देखा कि उनके दिमाग में कोई नकारात्मक विचार आए.’

उन्होंने आगे कहा, ‘सबसे शरारती कीर्ति आजाद और संदीप पाटिल थे, लेकिन उनका होना भी बहुत जरूरी था. अगर सारे के सारे क्रिकेटर सुनील गावस्कर बन जाएं, सचिन तेंदुलकर बन जाएं तो मुश्किल हो सकती है. अगर सभी सीरियस हो जाएं और हंसे भी ना तो खेल ही नहीं सकते.’ भारतीय टीम ने लॉर्ड्स में खेले गए फाइनल मुकाबले में 183 रन बनाए थे जिसके बाद विंडीज टीम को 140 रन पर ढेर कर दिया. मुकाबले में 12 रन देकर 3 विकेट लेने वाले मोहिंदर अमरनाथ मैन ऑफ द मैच रहे थे.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here