हैलीकॉप्टर विवाद: बैकफुट में कांग्रेस? चंडीगढ़ से सरकारी हैलीकॉप्टर में शिमला लाए गए वीरभद्र सिंह

0
1


हिमाचल प्रदेश में हाल ही में सीएम (CM) के नए हैलीकॉप्टर को लेकर विवाद हुआ था. कांग्रेस ने सरकार पर सवाल उठाए थे.

Himachal CM Helicopter Controversy: हिमाचल सरकार ने रूस की कंपनी से एक नया 24 सीटर हेलीकॉप्टर सीएम के लिए लीज पर लिया है. इसका किराया प्रति घंटे 5 लाख से अधिक है. ऐसे में मामला सामने आने के बाद सरकार की खूब किरकिरी हुई थी. लेकिन सरकार ने सफाई दी थी. कांग्रेस ने सरकार को जमकर इस मुद्दे पर घेरा था.

शिमला. हिमाचल प्रदेश में हाल ही में सीएम (CM) के नए हैलीकॉप्टर (Helicopter) को लेकर विवाद हुआ था. कांग्रेस ने सरकार पर सवाल उठाए थे, लेकिन कांग्रेस विधायक और वीरभद्र सिंह (Virbhadra Singh) के बेटे विक्रमादित्य सिंह ने इस मामले में सरकार का समर्थन किया था. अब वीरभद्र सिंह को शुक्रवार को चंडीगढ़ (Chandigarh) से शिमला (Shimla) लाने के लिए सरकार ने सरकारी हेलीकॉप्टर भेजा था. अब इस मामले में कांग्रेस बैकफुट पर आ गई है. दरअसल, पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह शुक्रवार को पंजाब के मोहाली के मैक्स अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद सरकारी हैलीकॉप्टर से शिमला पहुंचे थे. इस दौरान बाद में देरशाम को उनकी तबीयत नासाज हुई तो उन्हें आइजीएमसी में भर्ती हो गए. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, शुक्रवार को 12 बजे पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह हेलीकॉप्टर के माध्यम से शिमला के अनाडेल पहुंचे. मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने उन्हें वापस आने के लिए सरकार का हेलीकॉप्टर भेजा था. इससे पहले, भी बीते साल सीएम का सरकारी हैलीकॉप्टर बीमार वीरभद्र सिंह को चंडीगढ़ लाने गया था. उस दौरान वीरभद्र सिंह पीजीआई में भर्ती थे. क्या है विवाद दरअसल, हिमाचल सरकार ने रूस की कंपनी से एक नया 24 सीटर हेलीकॉप्टर सीएम के लिए लीज पर लिया है. इसका किराया प्रति घंटे 5 लाख से अधिक है. ऐसे में मामला सामने आने के बाद सरकार की खूब किरकिरी हुई थी. लेकिन सरकार ने सफाई दी थी. कांग्रेस ने सरकार को जमकर इस मुद्दे पर घेरा था. वहीं, कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह ने मामले में सरकार का समर्थन किया था. उन्होंने कहा कि था यह हेलीक़ॉप्टर आपातकालीन सेवाओं के लिए भी इस्तेमाल किया जाएगा.क्या बोले थे विक्रमादित्य विक्रमादित्य सिंह ने लिखा कि पिछले काफ़ी समय से मुख्यमंत्री के उड़नखटोले के ऊपर विवाद चला हुआ है. जैसा आप जानते हैं कि हमने हमेशा सही को सही और ग़लत को ग़लत कहने में विश्वास रखा हैं.जहाँ तक इस हेलीकॉप्टर की बात है तो हमें लगता है कि बेशक़ यह महँगा ज़रूर हैं. (जो हमें विश्वास है कि ग्लोबल टेंडर से शॉर्ट लिस्ट हुआ है). लेकिन यह विमान प्रदेश हित में है. हमें याद रखना चाहिए कि यह हेलीकॉप्टर केवल मुख्यमंत्री के लिए नहीं अपितु दुर्गम क्षेत्र में फँसे लोगों को शिमला आदि और शहरों में लाने के लिए भी उपयोग में लाया जाता है.







Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here