हिमाचल कांग्रेस की नब्ज टटोली, सह-प्रभारी ने विधायकों-नेताओं से अलग-अलग की बातचीत

0
2


कांग्रेस में चल रही कलह अब खुलकर सामने आने लगी है. (सांकेतिक फोटो)

Congress Meeting in Shimla: कुछ पार्टी नेताओं के अलग धड़े बनाने और बैठकों को लेकर राणा ने कहा कि इसमें कोई बुराई नहीं है, अपनी ही पार्टी के लोग हैं कहीं भी मिल सकते हैं और बैठक कर सकते हैं, इसे अलग रूप में पेश किया जा रहा है. साथ ही दावा किया कि कांग्रेस पार्टी एक है और 2022 में सत्ता में वापसी करेगी.

शिमला. हिमाचल कांग्रेस (Himachal Pradesh) की नब्ज टटोलने की कार्य नए सह प्रभारी संजय दत्त ने शुरू कर दिया है. अपने शिमला दौरे के दूसरे दिन सह प्रभारी ने कई विधायकों, वरिष्ठ नेताओं और पार्टी पदाधिकारियों से बैठक की है. जानकारी के अनुसार संगठन की गतिविधियों से लेकर आने वाले चुनावों पर चर्चा की गई, इसके अलावा प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर और अन्य महत्वपूर्ण पदों पर विराजमान पदाधिकारियों की कार्यप्रणाली और उनके प्रदर्शन पर फीडबैक लिया है.

साथ ही पार्टी को मजबूत करने के लिए सुझाव लिए जा रहे हैं. यहां ये मुलाकातें अहम इसलिए भी मानी जा रही हैं कि अधिकतर बातचीत अकेले में की जा रही है. हरेक व्यक्ति से फीडबैक लिया जा रहा है. रविवार तक ये सिलसिला जारी रहेगा. यहां से रिपोर्ट तैयार कर कांग्रेस आलाकमान को सौंपी जाएगी. धड़े में बंटी पार्टी को एकजुट करने की भी बड़ी जिम्मेदारी संजय दत्त को सौंपी गई है. चर्चाएं ये भी चल रही हैं कुछ लोग पार्टी अध्यक्ष को बदलने की मांग भी कर रहे हैं.

दोनों के सुर अलग-अलग ही नजर आए

इस बाबत जब संगठन के पदाधिकारियों और विधायकों की बात करें तो दोनों के सुर अलग-अलग ही नजर आए. पार्टी के प्रवक्ता रजनीश किमटा ने कहा कि कोरोना मुख्य एजेंडा है. पार्टी के कार्यों और सरकार की नाकामियों पर चर्चा की गई है. पार्टी ने किस तरह हिमाचल में कोविड के दौर में राहत कार्य चलाया इसका फीडबैक लिया गया. वहीं दूसरी ओर 2017 में भाजपा के मुख्यमंत्री के चहरे प्रेम कुमार धूमल को हराने वाले कांग्रेसी विधायक राजेंद्र राणा ने कहा कि आने वाले चुनावों में पार्टी किस तरह से जीत हासिल करेगी, इस पर चर्चा हुई है और फीडबैक लिया गया है. उन्होंने कहा कि व्यक्तिगत तौर पर हो रही इस बैठक में खुलकर अपने दिल की बात रखी जा रही है और सुझाव भी दिए जा रहे हैं. साथ ही संगठन को मजबूत करने को लेकर चर्चा हुई है. कुछ पार्टी नेताओं के अलग धड़े बनाने और बैठकों को लेकर राणा ने कहा कि इसमें कोई बुराई नहीं है, अपनी ही पार्टी के लोग हैं कहीं भी मिल सकते हैं और बैठक कर सकते हैं, इसे अलग रूप में पेश किया जा रहा है. साथ ही दावा किया कि कांग्रेस पार्टी एक है और 2022 में सत्ता में वापसी करेगी.क्या बोले कांग्रेस विधायक

2017 के विधानसभा चुनावों में सबसे ज्यादा मतों से जीतने वाले कसुम्पटी से विधायक अनिरुद्ध सिंह ने कहा कि संगठन को मजबूत करने और आने वाले निगमों और विधानसभा चुनावों को लेकर बातचीत हुई है. नए सह प्रभारी ने उनसे सुझाव भी मांगे हैं. उन्होंने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस अच्छी स्थिती में है और संगठन में बदलाव या अध्यक्ष बदलने को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई है.







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here