सोमवार से खुल गए सरकारी स्कूल, दो शिफ्टों में लगेंगे, पर कक्षाओं में विद्यार्थी न के बराबर आए

0
1


चंडीगढ़7 घंटे पहले

स्कूलों में पहुंचे विद्यार्थी

  • विद्यार्थियों में नजर आया कोरोना का खौफ, स्कूल कर रहे कोरोना नियमों का पालन
  • एक क्लास में 15 स्टूडेंट बैठेंगे, स्कूल के गेट पर की जा रही छात्रों की थर्मल स्क्रीनिंग

चंडीगढ़ में सोमवार से 9वीं से 12वीं तक के सरकारी स्कूल खुल गए हैं। लेकिन पहले दिन क्लास लगाने बहुत कम विद्यार्थी आए। प्रिंसिपल और टीचर्स की मानें तो अभी भी अभिभावकों को कोरोना का डर सता रहा है। इसलिए ज्यादा विद्यार्थी नहीं आए हैं। हो सकता है फेस्टिवल सीजन के बाद विद्यार्थी स्कूल ज्वॉइन करने आए। चंडीगढ़ में मिडल व हायर सेकेंडरी मिलाकर कुल 110 सरकारी स्कूल हैं। कुल 3288 स्टूडेंट्स पहले दिन स्कूल आए। 9वीं में 922,10वीं में 1525,11वीं में 340 और 12वीं में 501 स्टूडेंट्स सोमवार को आए।

बहरहाल जितने भी विद्यार्थी स्कूल आ रहे हैं, उनकी क्लास लगनी शुरू हो गई है। कुछ दिन रिस्पॉन्स देखने के बाद आगे की रणनीति तय की जाएगी। दूसरी ओर, स्कूल आने वाले विद्यार्थी इस बात से खुश हैं कि अब वे फिजिकली क्लास अटेंड कर पाएंगे, क्योंकि ऑनलाइन क्लास में कई तरह के संशय बने रहते हैं।

नोटिस बोर्ड पर चिपकाई गई कोरोना संबंधी गाइडलाइंस

गवर्नमेंट मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल के प्रिंसिपल देविंदर सिंह के मुताबिक, अभी अभिभावक कोविड-19 को लेकर टेंशन में हैं। हम उनको मैसेज करके समझाने की कोशिश करेंगे, ताकि वे बच्चों को स्कूल भेजें। कोविड-19 के सभी एसओपीज को फॉलो किया जा रहा है। टीचर्स की ड्यूटी लगाई गई है, ताकि विद्यार्थियों को अच्छे से मैनेज किया जाए सके।

विद्यार्थियों की मानें तो स्कूल आकर वे बेहद खुश हैं, क्योंकि उन्होंने बहुत कुछ मिस किया। पढ़ाई, दोस्त, लंच टाइम, गेम्स आदि सब कुछ मिस किया। स्टूडेंट्स का कहना है कि टीचर्स सामने बैठकर जो पढ़ाते हैं, वह अच्छे से समझ आता है। बड़ी क्लास में हम रिस्क नहीं ले सकते, इसलिए अच्छा हुआ स्कूल खुल गए।

विद्यार्थियों को जागरूक करने के लिए नोटिस बोर्ड पर लगाया गया चित्र

विद्यार्थियों को जागरूक करने के लिए नोटिस बोर्ड पर लगाया गया चित्र

एक क्लास में 15 स्टूडेंट्स के बैठने का प्रोविजन

स्कूलों में स्टूडेंट्स की मेन गेट पर थर्मल स्कैनिंग की जा रही है। उनसे पेरेंट्स की कंसेट पूछकर ही उन्हें क्लास में भेजा जा रहा है। फिलहाल एक क्लास में 15 स्टूडेंट्स को बैठाने का प्रोविजन है। लेकिन फिलहाल इससे भी कम स्टूडेंट्स क्लास में नजर आ रहे हैं।

दो शिफ्टों में लग रहे स्कूल

जिन क्लासेज के स्टूडेंट्स स्कूल नहीं आएंगे उनके टीचर्स स्कूल से ही ऑनलाइन क्लासेज लेंगे। गवर्नमेंट स्कूलों में करीब 4 हजार टीचर्स पढ़ा रहे हैं। शुरुआत में स्टूडेंट्स सिर्फ दो घंटे के लिए ही स्कूल आ रहे हैं। सुबह 9 से 11:30 के बीच 10वीं और 12वीं क्लास लग रही हैं जबकि 12 से 2:30 के बीच 9वीं और 11वीं की क्लास लग रही है।



Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here