Advertisement

रेजरे-पे को मिला 731 करोड़ रुपए का निवेश, देश का पांचवीं फिनटेक यूनिकॉर्न बनी कंपनी


  • Hindi News
  • Business
  • Razorpay News Update; Indian Fintech Payments Processing Startups Raising Rs 731 Crore In A New Financing Round

नई दिल्ली16 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • अनअकेडमी, पोस्टमैन, नाइका और जिरोधा भी इस साल यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हो गई हैं
  • भारत में रेजर-पे के अलावा 35 से अधिक स्टार्टअप यूनिकॉर्न हैं

पेमेंट गेटवे कंपनी रेजर-पे ने निवेशकों से 10 करोड़ डॉलर यानी 731 करोड़ रुपए जुटाए हैं। इसमें सिंगापुर के सॉवरेन वेल्थ फंड जीआईसी तथा सिकोया कैपिटल इंडिया सहित अन्य निवेशक शामिल हैं। नए निवेश के बाद कंपनी का मार्केट वैल्यूएशन एक अरब डॉलर से अधिक आंकी गई है। रेजर-पे में निवेश की जानकारी कंपनी ने सोमवार को दी।

पांचवी यूनिकॉर्न कंपनी बनी रेजर-पे

सीरीज-डी राउंड में कंपनी के मौजूदा निवेशक रिबिट कैपिटल, टाइगर ग्लोबल, वाई कॉम्बिनेटर और मैट्रिक्स पार्टनर्स ने भी हिस्सा लिया। नए निवेश के बाद पेमेंट गेटवे कंपनी रेजर-पे पांचवी स्टार्टअप यूनिकॉर्न बन गई है। इसकी मार्केट वैल्यू 1 बिलियन डॉलर के पार पहुंच गई है। कंपनी अब यूनिकॉर्न क्लब में भी शामिल हो गई है। इससे पहले बिलडेस्क, फोन-पे, पॉलिसी बाजार का मार्केट वैल्यू भी 2018 में एक बिलियन डॉलर के पार पहुंची थी। जबकि सेगमेंट की दिग्गज पेटीएम का मार्केट 16 बिलियन डॉलर है, जो 2014 में ही यूनिकॉर्न का तगमा हासिल कर चुकी है।

500 नए कर्मचारियों की होगी नियुक्ति

कंपनी में कुल 1300 कर्मचारी कार्यरत हैं। जो नियो-बैंकिंग बिजनेस रेजरपे-एक्स और लेंडिंग बिजनेस रेजर-पे कैपिटल के लिए काम कर रहे हैं। इन दोनों को 2018 में लॉन्च किया गया था। रेजर-पे कैपिटल प्रत्येक महीने 250 करोड़ रुपए का कर्ज वितरित करती है। इसमें 7 से 10 रुपए का कर्ज 3-6 महीने की अवधि के लिए दिया जाता है। नए निवेश के बाद पेमेंट गेटवे कंपनी अपने ग्रोथ, प्रोडक्ट और टेक्नोलॉजी के लिए 500 कर्मचारियों की भी नियुक्ति करेगी। रेजरपे के जरिए ट्रांजेक्शन वैल्यू पिछले साल की तुलना में 5 गुना बढ़कर 25 बिलियन डॉलर हो गया है। इसके अलावा कंपनी का बिजनेस भी प्री-कोविड लेवल पर पहुंच गया है।

कंपनी के कारोबार में 300% की ग्रोथ

कंपनी ने अपने स्टेटमेंट में कहा कि पिछले छह माह के दौरान उसके कारोबार में 300% की ग्रोथ हुई है। रेजर-पे इंटेलिजेंट ऑटोमेटेड पेमेंट और बैंकिंग सॉल्यूशन उपलब्ध कराती है। जिससे कंपनियों को अपने फाइनेंशियल स्ट्रक्चर को बदलने में मदद मिलती है। पेमेंट कंपनी रेजर-पे 2014 में अपनी शुरुआत के बाद से 20.65 करोड़ डॉलर का निवेश जुटा चुकी है। कंपनी ने 2019 में सीरीज-सी इन्वेस्टमेंट राउंड के जरिए 7.5 करोड़ डॉलर की रकम जुटाई थी।

भारत में 35 से अधिक स्टार्टअप यूनिकॉर्न

भारत में रेजर-पे के अलावा 35 से अधिक स्टार्टअप यूनिकॉर्न हैं। इनमें से ज्यादातर कंपनियों ने 2020 में निवेश के जरिए फंड जुटाए हैं। जैसे एडटेक स्टार्टअप अनअकेडमी, पोस्टमैन, नाइका, जिरोधा भी इस साल यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हो गई हैं। यानी इन कंपनियों का भी मार्केट वैल्यू एक बिलियन डॉलर के पार पहुंच गई है।



Source link

Advertisement
sabhijankari:
Advertisement