रिटायर्ड ऑफिसर के अकाउंट से 40 लाख रूपए उड़ाकर साइबर क्रिमिनल्स ने खरीदा सोना, न्याय दिलाने के लिए सामने आया PMO

0
1


बिहार के रोहतास में फर्जीवाड़े का शिकार बना अधिकारी

Cyber Crime: साइबर क्राइम से जुड़ा ये मामला बिहार के रोहतास का है. इस मामले में पुलिस ने उच्चकों को गिरफ्तार तो कर लिया है लेकिन पीड़ित को एक रूपए भी नहीं मिले हैं.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    December 13, 2020, 10:45 AM IST

सासाराम. बिहार में साइबर क्राइम (Cyber Crime) करने वाले अपराधियों ने नाल्को के रिटायर अफसर के खाते से 40 लाख रुपए उड़ा लिए. साइबर अपराध से जुड़े इस मामले का पुलिस ने उद्भेदन तो कर दिया लेकिन पीड़ित को उनमें एक रुपया भी वापस नहीं हुआ जिसके बाद बुजुर्ग न्याय के लिए भटक रहे हैं. अब थक हार कर उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को पत्र लिखा है. बड़ी बात यह है कि पीएमओ से उन्हेंं रिस्पांस भी मिलने लगा है.

प्रकाश चंद्र अखौरी, जो सासाराम के रहने वाले हैं नाल्को में एचआरडी के पद पर तैनात थे. सेवानिवृत्ति के बाद जो पैसे बचे थे, उस पैसे को उन्होंने अपने आगे के जिंदगी के लिए बचा कर रखा था लेकिन उन्हें क्या पता था कि साइबर अपराधी की नजर उनके बैंक खाते पर है? उन्होंने अपने नौकरी के दौरान पटना में एक फ्लैट खरीदा था. रिटायरमेंट के बाद उस फ्लैट को बेचकर पैसे को बैंक में जमा कर दिया था ताकि उसके ब्याज से उनका जीवन चल सके लेकिन साइबर अपराधियों ने उनके खाते से 40 लाख उड़ा कर बनारस के एक आभूषण दुकान से ऑनलाइन पेमेंट कर सोना खरीद लिया.

पुलिस ने इस मामले में तत्परता दिखाते हुए चार साइबर अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया जिसमें से सभी पीड़ित के करीबी ही थे. इनमें से दो लोग उनके किराएदार थे. सभी ने मिलकर पीड़ित को चूना लगाया था लेकिन अब भी चार आरोपी खुलेआम घूम रहे हैं. रिटायर अधिकारी का कहना है कि उनकी दो बेटियां विदेश में रहती हैं. वो अकेले सासाराम में रहते हैं ऐसे में उचक्कों की नजर उन पर है. ऐसी स्थिति में वो खुद को असुरक्षित भी महसूस करते हैं.

उन्होंने बताया कि पुलिस ने चार अपराधियों को गिरफ्तार तो कर लिया उसके पास से कुछ सोना भी बरामद हुआ लेकिन अभी तक उन्हें अपनी कोई राशि वापस नहीं मिल पायी है. पुलिस भी इस मामले के बाद उद्भेदन के बाद शिथिलता बरत रही है. अंत में उन्होंने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से मामले में हस्तक्षेप की गुहार लगाई है साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यालय को भी पत्र लिखकर न्याय मांगा है. पीड़ित ने बताया कि पीएमओ से उन्हें कुछ रिस्पांस भी मिला है. उन्हें उम्मीद है कि रिजर्व बैंक तथा प्रधानमंत्री कार्यालय से उन्हें न्याय अवश्य मिलेगा.इनपुट- अजीत कुमार





Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here