राजस्थान : आज रात होगी नए मुख्य सचिव की घोषणा, मौजूदा सीएस राजीव स्वरूप हो रहे हैं रिटायर

0
1


सीएस राजीव स्वरूप 31 अक्टूबर यानी आज रात को सेवानिवृत्त हो रहे हैं.

मुख्य सचिव के एक्सटेंशन के लिए गहलोत सरकार ने फाइल केन्द्र को भेज रखी थी. केन्द्र से हां या ना का कोई भी जवाब मिल सकता था. इस बीच राज्य सरकार ने विकल्प के तौर पर नए मुख्य सचिव को ढूंढ़ने की तैयारी शुरू कर दी थी.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 31, 2020, 10:49 PM IST

जयपुर : राजस्थान (Rajasthan) के मुख्य सचिव राजीव स्वरूप (CS Rajiv Swaroop) के एक्सटेंशन को लेकर दो हफ्ते से चल रहा अटकलों का सिलसिला अब बंद हुआ. केंद्र सरकार (central government) के पास राजीव स्वरूप के एक्सटेंशन के लिए भेजी गई फाइल को ग्रीन सिग्नल नहीं मिला. अब आज रात राजस्थान की ब्यूरोक्रेसी (Bureaucracy) में बड़ा बदलाव होगा. आज देर रात तक भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) के अधिकारियों के तबादले की सूची सामने आएगी.

आज रिटायर हो रहे हैं मुख्य सचिव राजीव स्वरूप

आपको बता दें कि मुख्य सचिव राजीव स्वरूप 31 अक्टूबर यानी आज सेवानिवृत्त हो रहे हैं. उन्हें केंद्र से एक्सटेंशन मिलेगी या नहीं – सब इसपर अपना-अपना अनुमान लगा रहे थे. मुख्य सचिव के एक्सटेंशन के लिए गहलोत सरकार (Gehlot Government) ने फाइल केन्द्र को भेज रखी थी. केन्द्र से हां या ना का कोई भी जवाब मिल सकता था. इसलिए इस बीच राज्य सरकार ने विकल्प के तौर पर नए मुख्य सचिव को ढूंढ़ने की तैयारी भी शुरू कर दी थी. ताकि 1 नवंबर को किसी दूसरे सीनियर आईएएस को मुख्य सचिव पद की कमान देने में कोई अड़चन न आए. मुख्य सचिव को एक्सटेंशन न मिलने पर कई सीनियर आईएएस ऑफिसर इस पद के दावेदार हैं. सूत्रों ने बताया कि तबादला सूची पर मंथन पूरा हो चुका है. आज रात ब्यूरोक्रेसी को नया मुखिया मिल जाएगा. कुछ ही देर बाद में नए मुख्य सचिव के नाम की घोषणा कर दी जाएगी.

ये है आईएएस अधिकारियों की वरिष्ठता सूचीवरिष्ठता के हिसाब से देखा जाए तो 1985 बैच के आईएएस रविशंकर श्रीवास्तव सबसे वरिष्ठ हैं. लेकिन एसीबी में दर्ज मामले उनकी राह में अड़चन पैदा कर सकते हैं. दूसरी वरीयता गिरिराज सिंह की है. लेकिन वे बीजेपी और और कांग्रेस के शासन में मुख्यधारा में कम ही रहे हैं. 1985 बैच के आईएएस अधिकारियों में रविशंकर श्रीवास्तव, गिरिराज सिंह और उषा शर्मा हैं. 1987 बैच की आईएएस नीलकमल दरबारी और वीनू गुप्ता वरिष्ठ हैं. वहीं 1988 बैच के सुबोध अग्रवाल और पीके गोयल हैं. इनके बाद 1989 बैच के राजेश्वर सिंह, निरंजन आर्य और रोहित कुमार सिंह हैं. सूत्रों ने बताया कि वित्त विभाग के ACS निरंजन आर्य रेस में सबसे आगे हैं.

गत एक दशक में राजन को ही दो बार मिला है सेवा विस्तार

प्रदेश में पिछले एक दशक में राज्य में 9 आईएएस मुख्य सचिव बने हैं. लेकिन इस दौरान केवल सीएस राजन को ही दो बार 3-3 महीने का सेवा विस्तार मिला है. राजन का कार्यकाल 31 दिसंबर 2015 को पूरा हो गया था. लेकिन तत्कालीन वसुंधरा सरकार ने उन्हें जून 2016 तक का केंद्र सरकार से 2 बार एक्सटेंशन दिलवाया था.





Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here