राजस्थानः कोटा के कांग्रेस नेताओं ने PCC चीफ से बयां किया दर्द, अफसर कर रहे दादागिरी और…

0
2


कोटा संभाग के नेताओं के साथ प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अजय माकन और PCC चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने की बैठक.

जयपुर में कोटा संभाग के कांग्रेस नेताओं के साथ प्रदेश प्रभारी अजय माकन (Ajay Maken) और PCC चीफ गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Dotasra) ने की बैठक. नेताओं ने दफ्तरों में वर्षों से जमे BJP और RSS के लोगों के तबादले और अफसरशाही पर लगाम कसने की मांग उठाई.

जयपुर. कोटा सम्भाग के 4 जिलों का फीडबैक लेने गए प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अजय माकन (Ajay Maken) और पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा (PCC Chief Govind Dotasra) के सामने शनिवार को कांग्रेस नेताओं ने शिकायतों का पिटारा खोल दिया. नेताओं ने कहा कि यूडीएच छोड़कर हर विभाग में नौकरशाही (Bureaucracy) हावी है और कार्यकर्ताओं की सुनवाई नहीं होती है. नेताओं ने कहा कि सरकारी कार्यालयों में भाजपा व संघ (BJP & RSS) से जुड़े अधिकारी और कार्यकर्ता जमे हुए हैं. इनके तबादले होने चाहिए. बैठक में गुटबाजी और व्यक्तिगत आरोपों का मुद्दा भी उठा और प्रदेश प्रभारी अजय माकन को यह कहना पड़ा कि आज की बैठक व्यक्तिगत आरोप-प्रत्यारोप का मंच नहीं है. किसी नेता से व्यक्तिगत शिकायत है तो वह लिखकर दें, यहां आरोप न लगाएं.

कांग्रेस का प्रदेश और जिलास्तर पर संगठन तैयार करने के लिए प्रदेश प्रभारी अजय माकन और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने सम्भागवार फीडबैक का सिलसिला एक बार फिर शुरू किया है. इसी के तहत दोनों नेता शनिवार को कोटा गए थे. यहां स्वायत्त शासन मंंत्री शांति धारीवाल, वरिष्ठ विधायक रामनारायण मीणा सहित कोटा सम्भाग के ज्यादातर बड़े नेता और कार्यकर्ता मौजूद थे. बैठक में नौकरशाही के हावी होने का मुद्दा  प्रमुख रूप से उठा और कार्यकर्ताओं ने कहा कि उनकी सुनवाई नहीं होती. इसके साथ ही कार्यकर्ताओं ने भाजपा व संघ से जुड़े कर्मचारियों के तबादले नहीं किए जाने पर भी नाराजगी जाहिर की.

कांग्रेस नेता नईमुद्दीन गुड्डू ने कहा कि यूडीएच को छोड़ बाकी विभागों में अफसर दादागिरी करते हैं. उन्होंने कांग्रेस नेताओं पर लगे मुकदमे वापस लेने की मांग भी की. वहीं आबिद कागजी ने कहा कि मंत्री सम्भाग स्तर पर भी सुनवाई करें. पंकज मेहता, कोटा नगर निगम के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अनिल सुवालका, पूनम गोयल ने भी सुझाव दिए. झालावाड़ कांग्रेस की बैठक में स्थानीय नेताओं के बीच नोंक-झोंक भी हुई. बैठक में कांग्रेस के वरिष्ठï नेता और विधायक भरत सिंह की गैर मौजूदगी चर्चा का विषय रही. कुछ कार्यकर्ताओं ने उन्हें मंत्री बनाए जाने की मांग उठाई.

संगठन को तरजीह मिलनी चाहिए- माकनबैठक के बाद मीडिया से बातचीत में प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने कहा कि बैठक में कई कार्यकर्ताओं ने संगठन को ज्यादा तरजीह देने का सुझाव दिया. मैं इस बात से पूरी तरह सहमत हूं कि संगठन को ज्यादा तरजीह मिलनी चाहिए. संगठन से सत्ता बनती है, सत्ता से संगठन नहीं बनता. माकन ने कहा कि हमारा 31 दिसम्बर तक प्रदेश कार्यकारिणी और जनवरी अंत तक राजनीतिक नियुक्तियां करने का लक्ष्य है. उन्होंने कहा कि कई सुझाव आए हैं. मंत्रियों को ब्लॉक स्तर पर भी जनसुनवाई करने का सुझाव दिया है. प्रभारी मंत्री अब महीने में 2 बार जनसुनवाई करेंगे.

डोटासरा बोले- अफसरों की शिकायत हर बार आती है
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष  गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि फीडबैक में यह बात आई है कि अफसर सुनवाई नहीं करते. यह शिकायत हर सरकार के वक्त आती है. सरकार ने थ्री टीयर जनसुनवाई का सिस्टम बनाया है. जिला, ब्लॉक और 10 गांवों के क्लस्टर स्तर पर महीने में एक बार अफसर और मंत्री जनसुनवाई करेंगे. उन्होंने कहा कि अजय माकन ने चार्ज संभालते ही संभागवार फीडबैक बैठकें करने का फैसला किया था. फीडबैक बैठकों में आए सुझावों पर सरकार ने बड़े फैसले किए हैं. डोटासरा ने कहा कि सत्ता और संगठन मिलकर साथ काम करेंगे. संगठन को पूरा महत्व मिलेगा.







Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here