ये शर्तें पूरी किए बिना सिनेमा हॉल में नहीं देख सकेंगे फिल्‍म, जारी हुए नए नियम

0
2


नई दिल्ली. कोरोना वायरस के कारण देशभर में सिनेमा हॉल (Cinema Halls) को बंद कर दिया गया था. अब 15 अक्‍टूबर से राजधानी दिल्‍ली (Delhi) में सिनेमा हॉल्‍स खोले जा रहे हैं. हालांकि, इसके लिए सिनेमा हॉल मालिकों और दर्शकों को खास एहतियात बरतनी होंगी. दिल्‍ली में सिनेमा हॉल में फिल्‍म देखने के लिए लोगों को कई शर्तों (Conditions) का पालन करना होगा. इसके लिए नए नियम (New Rules) जारी कर दिए गए हैं. नए नियमों के मुताबिक, आने वाले सभी दर्शकों का थर्मल स्‍कैनिंग (Thermal Scanning) के जरिये टेम्‍प्रेचर लिया जाएगा. इसके बाद उन्हें सैनिटाइज भी किया जाएगा.

आरोग्‍य सेतु ऐप नहीं होने पर नहीं मिलेगी एंट्री
नियमों के मुताबिक, थियेटर पहुंचने वाले लोगों के स्‍मार्टफोन में आरोग्य सेतु ऐप (Aarogya Setu App) डाउनलोड नहीं होगा तो उन्‍हें एंट्री नहीं दी जाएगी. साथ ही हर दर्शक को अपना मोबाइल नंबर और ई-मेल आईडी भी बतानी होगी. इतना ही नहीं दर्शकों को टिकट लेने के लिए सिनेमा हॉल आने की भी जरूरत नहीं होगी. मोबाइल फोन पर ही ई-टिकट बुक (E-Ticket Booking) हो जाएगा. सिनेमा हॉल के अंदर भी एक सीट छोड़कर बैठना होगा. हर शो के बाद हॉल को अंदर से सैनिटाइज किया जाएगा. दिल्ली के सबसे पुराने सिनेमा हॉल्‍स में शामिल डिलाइट डायमंड को भी खोलने की तैयारी चल रही है.

ये भी पढ़ें- 16 दिन में किसानों की जेब में पहुंचे 8,033 करोड़ रुपये, केंद्र ने एमएसपी पर खरीदा 43 लाख टन धानरामलीला और दुर्गा पूजा की भी मिली अनुमति

दिल्ली में रामलीला (Ramlila) और दुर्गा पूजा (Durga Puja) के लिए पंडाल लगाने की मंजूरी भी दे दी गई है. दिल्ली सरकार ने रविवार को इसके लिए औपचारिक आदेश जारी कर दिए हैं. हालांकि, देश की राजधानी में त्‍योहार के दौरान 31 अक्टूबर 2020 तक मेला, किसी वेन्यू के अंदर या बाहर फूड स्टॉल, रैली, प्रदर्शनी या जुलूस की इजाजत नहीं होगी. दिल्ली सरकार (Delhi Government) का आदेश है कि किसी भी कार्यक्रम से पहले इलाके के डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट से इजाजत लेना जरूरी होगा. आवेदन मिलने पर डीएम और डीसीपी मिलकर फैसला लेंगे. वे मंजूरी देने से पहले कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण भी करेंगे.

ये भी पढ़ें- हर महीने 180 अरब घंटे ऐप्‍स पर बिता रहे लोग, भारतीय खर्च कर रहे 30 फीसदी ज्‍यादा समय

दुर्गा पूजा, रामलीला में शामिल होगे 200 लोग
किसी भी बंद जगह में होने वाले कार्यक्रम में जगह की पूरी क्षमता के मुकाबले आधे लोग ही जमा हो सकेंगे. एक जगह पर 200 से ज्‍यादा लोगों को जमा नहीं होने दिया जाएगा. खुली जगह में दूरी के नियम के हिसाब से अधिकतम संख्या सख्ती के साथ तय की जाएगी. इवेंट ऑर्गेनाइजर किसी भी इवेंट के लिए अंदर आने और बाहर जाने के लिए अलग-अलग गेट रखेंगे. किसी भी व्यक्ति को बिना मास्क के एंट्री नहीं दी जाएगी. ऐसे सभी कार्यक्रमों का डाटा डीएम को अपने पास रखना होगा. पूरी दिल्ली का डाटा डिविजनल कमिश्‍नर के पास रहेगा. रामलीला, पूजा पंडाल के लिए डीएम एक नोडल ऑफिसर नियुक्त करेंगे. इलाके के डीसीपी भी एक नोडल ऑफिसर नियुक्त करेंगे.

ये भी पढ़ें- अब चीन को ऐसे पटखनी देगा भारत! अरुणाचल प्रदेश में नई रणनीति पर चल रही तैयारी

दिल्‍ली सरकार ने जारी किया नया एसओपी
डीएम और डीसीपी सरकार के आदेशों का सख्ती से पालन सुनिश्चित कराएंगे. कुछ दिन पहले भी दिल्ली सरकार ने नवरात्र, दीवाली को लेकर स्‍टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर (SOP) जारी किया था. नए एसओपी में दिल्‍ली सरकार ने बताया है कि अनलॉक 5.0 की केंद्र सरकार की गाइडलाइंस के मुताबिक 200 लोगों के साथ नवरात्र मनाया जा सकता है, लेकिन इसके लिए मूर्ति स्थापना और आरती नहीं होगी. साथ ही प्रसाद भी नहीं बांटा जा सकेगा. नए एसओपी 16 अक्टूबर से दिवाली और शरद पूर्णिमा तक आने वाले त्‍योहारों के लिए लागू होंगे.





Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here