मेयर पर लगाए आरोप: चंडीगढ़ के पूर्व मेयर ने निगम में ड्राइवरों की भर्ती में घपला हाेने की आशंका पर मेयर रविकांत शर्मा को इस्तीफा देने को कहा

0
1


  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • The Former Mayor Of Chandigarh Asked Mayor Ravikant Sharma To Resign Over Fears That He Might Be Involved In Recruitment Of Drivers In The Corporation

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चंडीगढ़6 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

नगर निगम चंडीगढ़ में ड्राइवरों की भर्ती को लेकर सवाल उठाए जा रहे। डेमो फोटो

  • पूर्व मेयर प्रदीप छाबड़ा ने कहा- ड्राइवर भर्ती मामले को लेकर पारदर्शिता क्यों नहीं रखी जा रही

चंडीगढ़ नगर निगम के पूर्व मेयर और कांग्रेसी नेता प्रदीप छाबड़ा ने नगर निगम के मेयर रविकांत शर्मा से ड्राइवरों की भर्ती में भ्रष्टाचार होने की आशंका को लेकर इस्तीफा देने की बात कही है। छाबड़ा ने कहा है कि निगम में इन दिनों ड्राइवरों की भर्ती को लेकर काम चल रहा है। ऐसे में इन भर्तियों को लेकर कोई पारदर्शिता नहीं रखी जा रही है, जिसके कारण अब विरोधी दल की ओर से मेयर पर आरोप लगाए जा रहे है। पिछले दिनों मेयर रविकांत शर्मा की ओर से निगम के कमिशनर को ड्राइवरों की भर्ती को लेकर नामों की लिस्ट भेजी गई थी जिसमें लिस्ट वालों को प्रमुखता देने की बात कही गई थी। उस लिस्ट को लेकर इन दिनों हंगामा मचा हुआ है।

पूर्व मेयर प्रदीप छाबड़ा ने आरोप लगाया कि ड्राइवरों की भर्ती प्रक्रिया में पारदर्शिता क्यों नहीं रखी गई। उन्होंने कहा कि ड्राइवरों की भर्ती को लेकर पार्षदों को अपनी मर्जी से दो-दो ड्राइवरों के नाम भेजने का अधिकार किसने दिया। उन्होंने कहा कि इससे पहले 112 लोगों की भर्तियां की गई थी ,उसकी भी जांच होनी चाहिए। जिससे निगम में बैठी भारतीय जनता पार्टी का असली चेहरा सामने आ सके।

छाबड़ा का कहना है कि रविकांत शर्मा पर समय समय पर पहले भी आरोप लग चुके हैं। रविकांत शर्मा पर अपने चहेते लोगों को सेक्टर -22 में पार्कों की रखरखाव का ठेका देने का भी आरोप है। रेहड़ी फड़ी वालों से उगाही के इल्जाम भी मेयर पर लग चुके हैं। प्रशासक को जल्द ही मेयर रविकांत शर्मा को मेयर पद से बर्खास्त करना चाहिए और भर्ती घोटाले व अन्य आरोपों की जांच करवाएं।

मैंने नाम नहीं भेजे: रविकांत शर्मा

इस बारे में मेयर रविकांत शर्मा का कहना है कि मैंने आउटसोर्स पर ड्राइवर और सुपरवाइजर की पोस्ट पर भर्ती करवाने के लिए निगम कमिश्नर के पास कोई लिस्टें नहीं भेजी हैं। काउंसलर द्वारा दो-दो नाम भेेजे गए थे। उनके बारे में डिस्कस जरूर किया था।

बिना टेस्ट ड्राइवर भर्ती किए तो हादसे बढ़ेंगे

मेयर रविकांत शर्मा ने निगम कमिश्नर केके यादव को चार लिस्ट में 152 नाम आउटसोर्स पर भर्ती करने के लिए भेजे हैं। 147 ड्राइवर और हॉर्टिकल्चर में पांच सुपरवाइजर भर्ती करने की सिफारिश की गई है। सुपरवाइजर के लिए तो यहां तक कहा गया है कि ‘ये मेरे खास हैं’। वहीं, डोर टू डोर कूड़ा उठाने वाली गाड़ियों पर बगैर ड्राइविंग टेस्ट लिए ड्राइवर रखने को कहा गया है। बगैर ड्राइविंग टेस्ट लिए 112 ड्राइवर्स रखे जाने को लेकर निगम हाउस में कांग्रेसी काउंसलर देवेंद्र सिंह बबला द्वारा सवाल उठाया जा चुका है।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here