‘मन की बात’ से PM मोदी ने वैक्‍सीन का भ्रम किया दूर, पढ़ें 10 बड़ी बातें

0
6


नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने आज अपने मासिक कार्यक्रम ‘मन की बात’ (Mann Ki Baat) के जरिए देश के कई अहम मुद्दों पर देशवासियों से बात की. प्रधानमंत्री मोदी के मन की बात कार्यक्रम के 78वें संस्‍करण की शुरुआत में लोगों से ही सवाल पूछ लिए. उन्‍होंने बताया कि अगर आप इन सवालों के जवाब देते हैं तो घर बैठे इनाम भी जीत सकते हैं. इस खास बातचीत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टोक्यो ओलंपिक में जाने वाले खिलाड़ियों को शुभकामनाएं दीं.

मन की बात कार्यक्रम के दौराना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने धावक मिल्‍खा सिंह को याद किया. उन्‍होंने बताया कि कोरोना से संक्रमित मिल्‍खा सिंह से जब उन्‍होंने बता की थी तो उन्‍होंने कहा था कि वह अस्‍पताल से लौटने के बाद टोक्‍यो ओलंपिक के खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाएंगे.

आइए जानते है मन की बात कार्यक्रम के कुछ अहम बातें :-

पीएम मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में सवाल पूछा कि ओलंपिक में अकेले गोल्‍ड जीतने वाला पहला भारतीय कौन था? ओलंपिक के कौन से खेल में भारत ने अब तक सबसे ज्यादा मेडल जीता है? ओलंपिक में किस खिलाड़ी ने सबसे ज्यादा पदक जीते हैं? पीएम मोदी ने कहा, MyGov में ओलंपिक पर जो क्विज है, उसमें प्रश्नों के उत्तर देंगे तो कई सारे इनाम जीतेंगे. ऐसे बहुत सारे प्रश्न MyGov के ‘Road to Tokyo Quiz’ में हैं. आप ‘Road to Tokyo Quiz’ में भाग लें.

पीएम मोदी ने कहा टोक्‍या ओलंपिक की बात हो रही हो, तो भला मिल्खा सिंह जी को कैसे भूला जा सकता है. कुछ दिन पहले ही कोरोना ने उन्हें हमसे छीन लिया. वो खेल को लेकर इतना समर्पित और भावुक थे कि बीमारी में भी उन्होंने तुरंत ही इसके लिए हामी भर दी लेकिन, दुर्भाग्य से नियति को कुछ और मंजूर था. मैंने कहा था कि आपने तो 1964 में टोक्‍यो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व किया था, इसलिए इस बार, जब हमारे खिलाड़ी ओलंपिक के लिए टोक्‍यो जा रहे हैं, तो आपको हमारे खिलाड़ी का मनोबल बढ़ाना है. उन्हें अपने संदेश से प्रेरित करना है.

हमारे प्रवीण जाधव जी के बारे में आप सुनेंगे, तो आपको भी लगेगा कि कितने कठिन संघर्षों से गुजरते हुए प्रवीण जी यहां पहुंचे हैं. प्रवीण जाधव जी, महाराष्ट्र के सतारा ज़िले के एक गांव के रहने वाले हैं. वो तीरंदाजी के बेहतरीन खिलाड़ी हैं. उनके माता-पिता मज़दूरी कर परिवार चलाते हैं और अब उनका बेटा, अपना पहला, ओलंपिक खेलने टोकयो जा रहा है. ये सिर्फ़ उनके माता-पिता ही नहीं, हम सभी के लिए कितने गौरव की बात है.

नेहा की तरह ही दीपिका कुमारी जी के जीवन का सफ़र भी उतार-चढ़ाव भरा रहा है. दीपिका के पिता ऑटो-रिक्शा चलाते हैं और उनकी मां नर्स हैं और अब देखिए, दीपिका टोक्‍यो ओलंपिक में भारत की तरफ से एकमात्र महिला तीरंदाज़ हैं . कभी विश्व की नंबर एक तीरंदाज़ रहीं दीपिका के साथ हम सबकी शुभकामनाएँ हैं.

पीएम मोदी ने कहा, कोरोना के खिलाफ़ हम देशवासियों की लड़ाई जारी है,लेकिन इस लड़ाई में हम सब साथ मिलकर कई असाधारण मुकाम भी हासिल कर रहे हैं. अभी कुछ दिन पहले ही हमारे देश ने एक अभूतपूर्व काम किया है. वैक्‍सीन की सुरक्षा देश के हर नागरिक को मिले, हमें लगातार प्रयास करते रहना है. कई जगहों पर वैक्‍सीन के भ्रम को खत्म करने के लिए कई संगठन के लोग आगे आए हैं और सब मिलकर के बहुत अच्छा काम कर रहे हैं.

पीएम मोदी ने बताया कि 21 जून को वैक्‍सीन अभियान के अगले चरण की शुरुआत हुई और उसी दिन देश ने 86 लाख से ज्यादा लोगों को एक दिन में मुफ़्त वैक्‍सीन लगाने का रिकॉर्ड भी बना दिया. इतनी बड़ी संख्या में भारत सरकार की तरफ से मुफ़्त वैक्‍सीनेशन और वो भी एक दिन में. स्वाभाविक है, इसकी चर्चा भी खूब हुई है.

पीएम मोदी ने कहा, अब से कुछ दिनों बाद 1 जुलाई को हम नेशनल डॉक्‍टर्स डे मनाएंगे. यह दिन देश के महान चिकित्‍सक डॉक्‍टर बीसी राय की जन्‍म जयंती को समर्पित है. कोरोना काल में डॉक्‍टरों के योगदान के हम सब आभारी हैं. हमारे डॉक्‍टरों से अपनी जान की परवाह न करते हुए हमारी सेवा की है. इसलिए इस बार नेशनल डॉक्‍टर्स डे और भी खास हो जाता है.

पीएम मोदी ने कहा, हमारे देश में कई लोग ऐसे भी हैं जो डॉक्‍टर्स की मदद के लिए आगे बढ़कर काम करते हैं. श्रीनगर से एक ऐसे ही प्रयास के बारे में मुझे पता चला. यहां डल झील में एक बोट एंबुलेंस सर्विस की शुरुआत की गई. इस सेवा को श्रीनगर के ताकिर अहमद जी ने शुरू किया, जो एक हाउस बोट ओनर हैं. उन्‍होंने खुद भी कोविड-19 से जंग लड़ी है और इसी ने उन्‍हें एंबुलेंस सर्विस शुरू करने के लिए प्रेरित किया.

डॉक्‍टर्स डे के साथ ही एक जुलाई को चार्टर्ड अकाउंटेंट डे भी मनाया जाता है . मैंने कुछ वर्ष पहले देश के चार्टर्ड अकाउंटेंट से ग्लोबल लेवल की भारतीय ऑडिट फर्म्स का उपहार मांगा था. आज मैं उन्हें इसकी याद दिलाना चाहता हूँ. अर्थव्यवस्था में पारदर्शिता लाने के लिए चार्टर्ड अकाउंटेंट बहुत अच्छी और सकारात्मक भूमिका निभा सकते हैं. मैं सभी चार्टर्ड अकाउंटेंट और उनके परिवार के सदस्यों को अपनी शुभकामनाएं देता हूँ.

पीएम मोदी ने ‘मन की बात’ में कहा, मुझे नैनीताल से परितोष ने लिखा है कि, उन्हें गिलोय और दूसरी कई वनस्पतियों के इतने चमत्कारी मेडिकल गुणों के बारे में कोरोना आने के बाद ही पता चला. उन्‍होंने कहा कि लोगों के आसपास ही कई औषधीय वनस्‍पतियां मौजूद हैं लेकिन उन्‍हें पता ही नहीं है. जिसे बारे में उन्‍हें जानने की जरूरत है. इसी तरह मध्य प्रदेश के सतना के एक साथी हैं श्रीमान रामलोटन कुशवाहा जी, उन्होंने बहुत ही सराहनीय काम किया है. रामलोटन जी ने अपने खेत में एक देशी म्यूज़ियम बनाया है. इस म्यूज़ियम में उन्होंने सैकड़ों औषधीय पौधों और बीजों का संग्रह किया है.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here