ब्रह्मेश्वर मुखिया हत्याकांड: जब 9 साल पहले आरा में हुए हाई प्रोफाइल मर्डर के बाद जल उठा था बिहार

0
11


ब्रह्मेश्वर मुखिया की फाइल फोटो

Brahmeshwar Mukhia Murder Case: ब्रह्मेश्वर मुखिया की हत्या के बाद आरा समेत पटना, औरंगाबाद, जहानाबाद एवं गया जिला समेत बिहार के अन्य जगहों पर उपद्रव हुआ था. हालात ऐसे थे कि आरा में भीड़ ने तत्कालीन डीजीपी अभयानंद पर भी हमला बोलने की कोशिश की थी

पटना. बिहार में नक्सलियों और सवर्णों के बीच दशकों तक चले खूनी संघर्ष का साक्षी रहे रणवीर सेना (Ranveer Sena) के सुप्रीमो ब्रह्मेश्वर मुखिया की आज नौवीं बरसी है. रणवीर सेना सुप्रीमो रहे ब्रह्मेश्वर मुखिया (Brahmeshwar Mukhia Murder Case) की 1 जून 2012 को आरा में गोलियों से भून कर हत्या कर दी गई थी. बिहार के भोजपुर जिले के पवना थाना क्षेत्र के खोपीरा गांव निवासी ब्रह्मेश्वर मुखिया का घर आरा शहर में कतिरा-स्टेशन रोड में है. एक जून 2012 को रोज की तरह सुबह में मुखिया अपने आवास की गली में ही टहल रहे थे, इसी दौरान सुबह के करीब चार-साढ़े चार बजे उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई. आरा में हुई हत्या की इस वारदात के चंद घंटों बाद ही बिहार के हर इलाके से हिंसा और विरोध की खबरें आनी लगी थीं.

धधक उठा था बिहार

9 साल बाद भी भले इस मर्डर केस में हत्यारों का सुराग नहीं मिल सका हो लेकिन मुखिया हत्याकांड के बाद बिहार से लेकर दिल्ली तक की सियासत गरमा गई थी. मुखिया की हत्या के बाद आरा समेत पटना, औरंगाबाद, जहानाबाद एवं गया जिला समेत बिहार के अन्य जगहों पर उपद्रव हुआ था. हालात ऐसे थे कि आरा में भीड़ ने तत्कालीन डीजीपी अभयानंद पर भी हमला बोलने की कोशिश की थी. मुखिया की हत्या के बाद उनके बेटे इंदुभूषण सिंह ने आरा के नवादा थाना में अज्ञात के विरुद्ध केस दर्ज कराया था, जिसके बाद बिहार सरकार ने पहले एसआइटी का गठन किया और सच सामने नहीं आने पर सीबीआई जांच का आदेश दिया था. इस हाईप्रोफाइल मर्डर केस में कई बड़े लोगों का नाम सामने आया. लेकिन अभी तक यही पता नहीं चला कि ब्रह्मेश्वर मुखिया पर गोली चलाने वाले हमलावर कौन थे.

आरा ले लेकर पटना तक तांडव2 जून की दोपहर को आरा से ब्रह्मेश्वर मुखिया का शव दाह संस्कार के लिए पटना निकला लेकिन मुखिया के समर्थकों के उत्पात का साक्षी पूरा पटना बना. आरा में तांडव मचाने वाली भीड़ ने पटना में भी यही रूख कायम रखा. भोजपुर की सीमा पार करते ही पटना से सटे बिहटा में बीजेपी के तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष और सांसद सीपी ठाकुर और पूर्व विधायक रामाधार शर्मा पर हमला हुआई तो उसके बाद उसके बाद पटना के सगुना मोड़ से लेकर बांसघाट तक का इलाका मुखिया समर्थकों के तांडव को झेलता रहा. ऐसा लग रहा था मानो पूरी बिहार पुलिस उस वक्त बेबस हो चुकी थी

सीबीआई लाचार

सीबीआई अभी भी बिहार के इस चर्चित मर्डर केस की जांच कर रही है लेकिन अभी तक किसी भी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है. सीबीआई ने साल 213 में इस केस की जांच शुरू की और कातिलों का सुराग पाने के लिए तीन-तीन बार 10 लाख रुपये इनाम देने की घोषणा भी की है, सात साल के अंदर लगातार छह बार इनाम के पोस्टर भी चस्पाए जा चुके हैं लेकिन देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी की उपलब्धि शून्य है. सीबीआई की इस जांच पर मुखिया के परिवार का भी आरोप है कि आज कातिल सलाखों के पीछे होने के बजाए आजाद घूम रहे हैं. ब्रह्मेश्व मुखिया के पुत्र इंदु भूषण सिंह ने अपने पिता की हत्या की जांच में अभी तक कोई निष्कर्ष नहीं निकलने पर नाराजगी जताई है. उनका कहना है कि इस केस में कई आईओ आए और बदल भी गए लेकिन, अभी तक स्थिति ज्यों की त्यों है.







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here