बड्डी कम्पोस्टर की शुरुआत: साउथ एमसीडी ने दी होमकम्पोस्टिंग किट ताकि घर पर ही रसोई के कचरे से तैयार कर सके जैविक खाद

0
3


  • Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • South MCD Gave Home Composting Kit So That Organic Manure Can Be Prepared At Home From Kitchen Waste

नई दिल्ली6 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

सीएसआर के तहत हर कॉलोनी को मुफ़्त 10 होम कम्पोस्टिंग किट वितरित की गई है ताकि नागरिक घर पर ही रसोई के कचरे से जैविक खाद तैयार कर सके।

  • साउथ एमसीडी की नई पहल: बड्डी कंपोस्टर से होगा कूड़े का निष्पादन

दक्षिणी निगम ने स्रोत पर ही कूड़े के निष्पादन एक नई पहल बड्डी कम्पोस्टर की शुरुआत की। इस नए कार्यक्रम की शुरुआत दक्षिणी ज़ोन से की गई है। इस पहल के तहत दक्षिणी ज़ोन ने आईटीसी वाव के सहयोग से क्षेत्र की 20 कॉलोनियों को होम कम्पोस्टिंग के लिये चुना है। जिसमें 10 कॉलोनियों में इस कार्यक्रम की शुरुआत हो चुकी है। सीएसआर के तहत हर कॉलोनी को मुफ़्त 10 होम कम्पोस्टिंग किट वितरित की गई है ताकि नागरिक घर पर ही रसोई के कचरे से जैविक खाद तैयार कर सके।

शुरुआत में 100 घरों को इस प्रक्रिया से जोड़ा गया

क्षेत्रीय उपायुक्त डॉ सोनल स्वरूप ने बताया कि इस पहल की शुरुआत नीति बाग, ग्रेटर कैलाश, आनंद निकेतन, वसंत विहार, चितरंजन पार्क की कॉलोनियों से हो गई है और जल्द ही क्षेत्रों की अन्य कॉलोनियों को भी इस कार्यक्रम से जोड़ा जाएगा। बड्डी कम्पोस्टर कार्यक्रम का का निगम की कॉलोनियों में सूखे और गीले कूड़े को अलग-अलग करना व होम कम्पोस्टिंग प्रक्रिया को प्रोत्साहित करना है।

होम कम्पोस्टिंग से स्रोत पर ही कूड़े का निष्पादन होगा और लैंड फिल साइट पर भी कम बोझ पड़ेगा। कार्यक्रम की शुरुआत में 100 घरों को इस प्रक्रिया से जोड़ा गया था लेकिन धीरे धीरे नागरिकों का उत्साह बढ़ा और वे इस पहल में शामिल हो गए। दक्षिणी निगम ने लॉकडाउन के दौरान ऑनलाइन सेशन के माध्यम नागरिकों को समझाया कि वे किस प्रकार अपने घर पर होम कम्पोस्टिंग कर सकते हैं। पिछले एक महीने में 5 कॉलोनियों में ऑनलाइन सेशन द्वारा होम कम्पोस्टिंग के लिये जागरूकता कार्यक्रम चलाए गए।

गोबर गैस प्लांट शुरु होने से लैंडफिल साइट पर कचरे की मात्रा में आएगी कमी

गोबर गैस प्लांट के निर्माण से लैंडफिल साइट पर कचरे की मात्रा में कमी आयेगी। इससे डेयरी क्षेत्रों में साफ सफाई में सुधार होगा और नालियों में गोबर नहीं बहेगा। साथ ही बीमारियों के फैलने पर लगाम लगेगी और पर्यावरण संरक्षण होगा। उक्त बातें शनिवार को दक्षिणी दिल्ली के महापौर मुकेश सूर्यान ने नजफगढ़ ज़ोन में निर्माणाधीन गोबर गैस प्लांट के निरीक्षण के दौरान कही। इस अवसर पर महापौर ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि नंगली और गोयला डेयरी में गोबर गैस प्लांट के काम में तेजी लाई जाए। उन्होंने बताया कि इन गोबर गैस प्लांट के निर्माण से क्षेत्र की सबसे बड़ी समस्या का हल हो जाएगा।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here