पूर्व मंत्री शीशराम ओला पर BJP प्रवक्ता की टिप्पणी पर कांग्रेस बोली- किसानों से इतनी नफरत क्यों?

0
6


जयपुर. भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव भाटिया की एक टिप्पणी को लेकर बवाल खड़ा हो गया है. भाटिया ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री और कद्दावर जाट नेता रहे स्व. शीशराम ओला को लेकर सोशल मीडिया पर विवादित टिप्पणी की. उन्होंने ट्वीट किया कि  “जून 2013 में कांग्रेस के मंत्रिमंडल विस्तार में 85 उम्र के शीशराम ओला जी को शामिल किया गया था. जिनका हिल गया था पुर्जा, उनमें मनमोहन जी ढूंढ रहे थे ऊर्जा.”  गौरव भाटिया के इस ट्वीट पर कांग्रेस और जाट नेताओं की ओर से कड़ी प्रतिक्रिया देखने को मिली जिसके बाद गौरव भाटिया ने अपना ट्वीट हटा लिया.

गौरतलब है कि झुंझुनूं जिले से ताल्लुक रखने वाले स्व. शीशराम ओला कद्दावर कांग्रेस नेता के साथ ही बड़े जाट नेता भी रहे हैं और किसान नेता के तौर पर उनकी पहचान थी. उनको लेकर की गई टिप्पणी से जाट नेताओं की नाराजगी भी बीजेपी प्रवक्ता पर देखने को मिली.

किसान से इतनी नफरत क्यों?

गौरव भाटिया के इस ट्वीट पर राजस्थान कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा की प्रतिक्रिया सामने आई, जिसमें उन्होंने गौरव भाटिया के साथ ही भाजपा की नीति पर भी सवाल खड़े किए. डोटासरा ने ट्वीट पर लिखा कि “पद्मश्री के सम्मान से सम्मानित, किसानों के गौरव रहे स्व. शीशराम जी ओला के बारे में की गई यह टिप्पणी बेहद शर्मनाक और निन्दनीय है. सतीश पूनिया जी क्या आप भी आपकी पार्टी के इन सज्जन महानुभाव के ऐसे घटिया विचारों से सहमत हैं? आखिर किसान कौम से इतनी नफरत क्यों है भाजपा को?”

सबूत मिटा नहीं सकते

विरोध होने के बाद गौरव भाटिया ने अपना एक ट्वीट तो डिलीट कर दिया, लेकिन इसी से जुड़ा एक ट्वीट उनकी वॉल पर मौजूद था. एक न्यूज चैनल के कार्यक्रम में गौरव भाटिया ने यही टिप्पणी की थी, जिसे उन्होंने वीडियो क्लिप के साथ ट्वीट किया था. गौरव भाटिया यह ट्वीट डिलीट करना भूल गए. इस पर पीसीसी चीफ गोविन्द सिंह डोटासरा ने उन पर ट्वीट के जरिए फिर हमला बोला. डोटासरा ने उस ट्वीट को टैग करते हुए लिखा कि “महोदय पहले वाला ट्वीट तो डिलीट कर दिया, ये वाला करना भूल गए आप. कितने की ट्वीट डिलीट कर लें. आपकी पार्टी की किसान विरोधी सोच के ऐसे सबूत आप मिटा नहीं सकते.”



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here