Advertisement

न्यूजीलैंड के आम चुनाव में जेसिंडा अर्डर्न की पार्टी को हासिल हुई शानदार जीत


न्यूजीलैंड की जेसिंडा अर्डन का दोबारा पीएम बनना तय (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न (Jecisnda Ardern) की केंद्र-वाम लेबर पार्टी ने न्यूजीलैंड (New Zealand) के आम चुनाव में शानदार जीत हासिल की. न्यूज एजेंसी रायटर्स ने यह जानकारी दी है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 17, 2020, 4:30 PM IST

वेलिंगटन. न्यूजीलैंड की वर्तमान प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न (Jacinda Ardern) दोबारा सत्ता पर काबिज होने जा रही हैं. दरअसल, प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न की केंद्र-वाम लेबर पार्टी ने न्यूजीलैंड के आम चुनाव में शानदार जीत हासिल की. न्यूज एजेंसी रायटर्स ने यह जानकारी दी है. कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Pendemic) का सख्ती से सामना करने के बाद देश में उनकी लोकप्रियता काफी बढ़ती चली गई. यही वजह है कि अब उन्हे सत्ता की चाबी थामने से कोई नहीं रोक सकता है.. 40 वर्षीय अर्डर्न की पार्टी ने वर्ष 2017 में दो अन्य पार्टियों के साथ गठबंधन कर सरकार बनाई, जिसके बाद उन्हें प्रधानमंत्री बनाया गया था.

साल 1996 में जब से न्‍यूजीलैंड में अनुपातिक वोटिंग सिस्‍टम की शुरुआत हुई है और 24 साल के इतिहास में यह पहला मौका है जब किसी राजनीतिक दल को इतना बड़ा बहुमत मिल रहा है.  लेबर पार्टी के लिए यह कई दशकों में मिली अब तक की सबसे बड़ी जीत है.

https://twitter.com/ANI/status/1317405375520411648?ref_src=twsrc%5Etfw
विपक्षी पार्टी सबसे बड़ी हार की तरफ वहीं विपक्षी नेता जुडिथ कॉलिन की नेशनल पार्टी को अब तक 26 प्रतिशत वोट यानी 34 सीटों पर जीत मिली है. 20 सालों में यह पार्टी अपनी सबसे बड़ी हार की तरफ बढ़ रही है. कोविड-19 के चलते सिर्फ 25 लोगों की मौत हुई

आरड्रेन ने इन चुनावों को ‘कोविड इलेक्‍शंस’ नाम दिया है. इसके साथ ही उन्‍होंने अपनी सरकार का प्रचार भी महामारी को खत्‍म करने और वायरस का कम्‍युनिटी ट्रांसमिशन रोकने में हासिल सफलताओं के आधार पर किया है. न्‍यूजीलैंड की आबादी 5 मिलियन यानी 50 लाख है और कोरोना की वजह से यहां पर बस 25 लोगों की मौत हुई है.

ये भी पढ़ें: ट्रंप ने इल्हान पर लगाया झूठा आरोप, कहा- US में रहने के लिए छोटे भाई से शादी की

पाकिस्तानी सेना और ISI ने मुझे हटाकर इमरान खान की ‘कठपुतली सरकार’ बनवाई: नवाज़ शरीफ

कोविड के अलावा मार्च 2019 में क्राइस्‍ट चर्च में हुए आतंकी हमले के बाद जिस तरह आरड्रेन एक नेता के तौर पर सामने आई थीं, उसने भी उनकी लोकप्रियता को बढ़ाने में खासा योगदान दिया है। उस हमले में 51 लोगों की मौत हो गई थी.





Source link

Advertisement
sabhijankari:
Advertisement