दशमेश कोल्ड स्टोर: पूरे पंजाब में 26.20 करोड़ की 2 लाख कोरोना फतेह किट देने वाली ग्रैंड-वे कंपनी सलेम टाबरी के कोल्ड स्टोर में चल रही है

0
2


  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Mohali
  • Grand way Company, Which Gives 2 Lakh Corona Fateh Kits Worth 26.20 Crores Across Punjab, Is Running In The Cold Store Of Salem Tabari.

मोहाली7 मिनट पहलेलेखक: मनोज जोशी/लखवंत सिंह

  • कॉपी लिंक

कंपनी का नाम और जीएसटी नंबर फाइबर के एक बोर्ड पर लगा हुआ था, लेकिन यह बोर्ड आधा टूटा था। आसपास लोगों ने बताया दो दिन पहले तक यह बोर्ड दुरुस्त था।

  • भास्कर टीम कंपनी के पते पर पहुंची तो वहां कोल्ड स्टोर के बाहर टैंपो फल-सब्जी लोड कर आ जा रहे थे
  • कर्मचारी बोले- कपड़े, पीपीई किट बनाते हैं, लेकिन इन दिनों काम बंद है, कंपनी के मालिक पवनीत चावला और सीईओ का नंबर भी देने से किया इनकार

ऑक्सीमीटर, थर्मामीटर, डोलो, मास्क, सैनिटाइजर जैसे 18 आइटम से युक्त पंजाब सरकार की कोरोना किट, जिसे ‘फतेह किट’ का नाम दिया गया है, बनाने वाली कंपनी ग्रैंड-वे कॉर्पोरेशन लुधियाना में ‘जालंधर बाईपास, सलेम टाबरी – दशमेश कोल्ड स्टोर’ में चल रही है।

यह वही एरिया है जिसका एड्रेस एनएचआरएम की ओर से कंपनी को जारी किए गए परचेज ऑर्डर पर लिखा हुआ है। कंपनी का ऐसी किट बनाने का कोई अनुभव नहीं है। कंपनी पीपीई किट और मास्क बनाती है। दो दिन पहले ही विपक्ष ने फतेह किट में घोटाले के आरोप लगाए थे।

भास्कर टीम बुधवार दोपहर कंपनी के पते पर पहुंची तो देखा-यहां कोल्ड स्टोर के बाहर टेम्पो फल-सब्जी लोड करके आ-जा रहे थे। इस कोल्ड स्टोर में किसी भी बाहरी व्यक्ति को अंदर जाने की इजाजत नहीं थी। एक गार्ड से पूछा- कपड़े मिल जाएंगे, तो उसने यह कहकर अंदर जाने से रोक दिया कि अभी यहां काम बंद है।

कहा गया कि पीपीई किट व अन्य सामान लेना है, तब भी उसने इजाजत नहीं दी। कंपनी के एमडी पवनीत चावला और सीईओ कंवरदीप सिंह के बारे में पूछा गया तो गार्ड ने कहा, उसके मालिक हैं, पर उनका नंबर नहीं दे सका। भास्कर ने सूत्रों से पवनीत चावला और एक अन्य अधिकारी का नंबर का जुगाड़ किया, एक नंबर पर फोन करने पर महिला ने फोन उठाया।

हमने उन्हें बताया- हमारी एनजीओ है, हमें पीपीई किट चाहिए, दो साथी कंपनी के गेट पर खड़े हैं, कोई अंदर नहीं जाने दे रहा। महिला ने एक नंबर दिया और कहा कि बात करलो, अंदर आने देंगे। जब इस नंबर पर बात कि तो बताया गया कि यह ग्रैंड-वे कंपनी का नंबर नहीं है।

सरकार ने 26.20 करोड़ की दो लाख किट के ऑर्डर ग्रैंड-वे को दिए

  • 20 अप्रैल: 50,000 फतेह किट का परचेज ऑर्डर 1226.40 रुपए प्रति किट के हिसाब से 6,13,20,000 रुपए में इस कंपनी को दिया।
  • 7 मई: 1.50 लाख फतेह किट का ऑर्डर 1338.40 रुपए प्रति किट (सभी टैक्स लगाकर) 20,07,60,000 रुपए में दिया।
  • परचेज ऑर्डर में कंपनी का यह कोल्ड स्टोर वाला एड्रेस ही दर्ज है। कंपनी का नाम इंटरनेट पर डालकर सर्च करते हैं तो वहां भी कपड़े बेचने वाले कंपनी सामने आती है, जो विदेशांे मंे भी कपड़े बेचती है। बुधवार को कंपनी की वेबसाइट सुबह से शाम तक बंद रही।
  • कंपनी के पास ड्रग लाइसेंस नहीं है।

कंपनी ने लुधियाना की पिंडी स्ट्रीट के ईश्वर पाल सिंह अहूजा के नाम का लाइसेंस लगाया हुआ है।

बेटा बोला…
पिता बीमार हैं, थोड़ी देर में बात करवाऊंगा, फिर फाेन नहीं उठाया कंपनी के एमडी पवनीत चावला के मोबाइल पर कॉल की गई तो फोन उठाने वाले ने खुद को उनको बेटा बताया। भास्कर ने उनसे सवाल किया कि वो फतेह किट कैसे तैयार करते हैं, जबकि ये तो कपड़े बनाने की कंपनी है।

इस पर जवाब मिला कि इस बारे में पापा ही बता सकते हैं, मैं उनका बेटा हूं, उनकी तबीयत खराब है, दो घंटे बाद खुद बात करवा दूंगा। उसके बाद उन्हें कई बार कॉल की गई, लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here