तेजस्वी के सुर में सुर मिलाने लगे चिराग पासवान, कहा – हमारी गहरी दोस्ती है, वह मेरा छोटा भाई है

0
6


पटना. बिहार की राजनीति रोज रंग बदल रही है. कुछ दिनों पहले लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) में चाचा पशुपति कुमार पारस (Pashupati Kumar Paras) और भतीजे चिराग पासवान (Chirag Paswan) के बीच वर्चस्व की लड़ाई शुरू हुई थी. इस बीच एलजेपी के चिराग पासवान को साथ रखने के लिए आरजेडी ने जो दांव चला वह चिराग को लुभाने लगा है.

आज ही चिराग पासवान ने कहा कि मेरे पिता और लालू जी हमेशा करीबी दोस्त रहे हैं. राजद नेता तेजस्वी यादव और मैं बचपन से एक-दूसरे को जानते हैं, हमारी गहरी दोस्ती है. वह मेरा छोटा भाई है. जब बिहार में चुनाव का समय आएगा तब पार्टी गठबंधन पर अंतिम फैसला लेगी.

आपको बता दें कि आरजेडी फिर से एलजेपी के युवा नेता को साथ लाने की कवायद में जुट गई है. अब चिराग पासवान को खुश करने के लिए एक तेजस्‍वी यादव ने घोषणा की कि उनकी पार्टी 5 जुलाई को चिराग पासवान के दिवंगत पिता और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की जयंती मनाएगी. सूत्रों के मुताबिक, आरजेडी यह कवायद चिराग को अपने खेमे में लाने की एक और कोशिश है. हालांकि इस दिन राष्‍ट्रीय जनता दल का 25वां स्‍थान दिवस भी है. बता दें कि पिछले साल हुए बिहार विधानसभा चुनाव में एलजेपी ने आरजेडी से नाता तोड़कर एनडीए के खिलाफ अकेले मैदान में उतरी थी और उसे करीब छह फीसदी (26 लाख) वोट मिले थे. इस वजह से तेजस्‍वी यादव चाहते हैं कि अगर चिराग उनकी तरफ आ जाते हैं, तो 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव के साथ 2025 में होने वाले विधानसभा चुनाव में इसका फायदा मिल सकता है.

वैसे एलजेपी में टूट के साथ ही तेजस्वी यादव ने चिराग को अपने साथ आने का ऑफर दे दिया था. वहीं, कांग्रेस के राज्‍यसभा सांसद अखिलेश प्रसाद सिंह ने कहा था कि चिराग पासवान बिहार के बड़े नेता हैं और हर कोई चाहता है कि वो हमारे साथ रहें. जेडीयू और भाजपा ने तो उनके साथ धोखा किया है.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here