डिस्ट्रिक्ट कोर्ट्स अनलॉक: मंगलवार से सभी जज बैठेंगे कोर्ट में; अभी विटनेस, पीड़ित और आरोपी को कोर्ट आने की इजाजत नहीं

0
2


  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • All Judges Will Sit In Court From Tuesday, District And Sessions Judge Vijay Singh Passed Order; Right Now, Victim And Accused Are Not Allowed To Come To Court.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चंडीगढ़2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सोमवार को कुल 1500 केस लिस्टेड थे। लेकिन जज और वकील ही हुए शामिल।

  • डिस्ट्रिक्ट एंड सेशंस जज ने पास किया ऑर्डर

सोमवार दोपहर बाद डिस्ट्रिक्ट कोर्ट्स चंडीगढ़ में केसों की फिजिकल हियरिंग शुरू हो गई है। दोपहर से पहले डिस्ट्रिक्ट एंड सेशंस जज विजय सिंह ने एक बैठक कर ऑर्डर पास किया कि अब हर रोज सभी जज कोर्ट में बैठेंगे और हर रोज शाम उन्होंने संबंधित अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी है कि कितने मामलों पर सुनवाई हुई । बता दें कि कोर्ट में कुल 27 जज हैं और अब सब वकील की मौजूदगी में मामलों की सुनवाई करेंगे। हालांकि, फिलहाल न तो विटनेस और न ही पीड़ित व आरोपी सुनवाई में शामिल हो सकेंगे। सोमवार को कुल 1500 केस लिस्टेड थे।

6 अक्टूबर को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने कहा था कि डिस्ट्रिक्ट कोर्ट्स में केसों की फिजिकल सुनवाई हो। बावजूद इसके कुछ जज कोर्ट नहीं आ रहे थे। लेकिन, सोमवार को डिस्ट्रिक्ट एंड सेशंस जज विजय सिंह ने सख्ती से ऑर्डर पास करते हुए सभी जजों को हर रोज कोर्ट आने के लिए कहा है। लेकिन, इसमें भी दोनों तरफ के वकीलों की कंसेंट होगी तभी मामले की सुनवाई कोर्ट में होगी। इसके अलावा केस टू केस डिपेंड करेगा कि विटनेस, पीड़ित और आरोपी फिजिकल हियरिंग में शामिल होंगे कि नहीं।

कई वकील छोड़ना चाहते थे वकालत

लॉकडाउन के बाद से ही कोर्ट्स में फिजिकल सुनवाई बंद थी। इस कारण वकीलों के पास काम काफी कम हो गया था। कई वकील तो वकालत तक छोड़ने का मन बना चुके थे। पंजाब एंड हरियाणा बार काउंसिल ने बताया कि पिछले साल उनके पास चंडीगढ़, पंजाब व हरियाणा के दो हजार से ज्यादा वकीलों ने अपने लाइसेंस सस्पेंड करने के लिए एप्लीकेशन दे दी थी। ये वकील वकालत छोड़कर कोई और काम करना चाहते थे, जिसके लिए उन्हें लाइसेंस सरेंडर करना जरूरी था। इन्होंने बार काउंसिल के पास एप्लीकेशन दी। हालांकि, बार काउंसिल ने उनकी एप्लीकेशन को मंजूर नहीं किया था। बार काउंसिल के चेयरमैन एडवोकेट करनजीत सिंह ने कहा कि उन्होंने वकीलों को समझाया, उन्हें मोटिवेट किया, ताकि वे इस लाइन को न छोड़ें।



Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here