ठेकेदार आउटसोर्स कर्मचारियों का कर रहे शोषण प्रशासन के अफसर देख रहे हैं तमाशा

0
1


चंडीगढ़18 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

मांगों को लेकर कर्मचारियों ने सोमवार को डीसी ऑफिस के बाहर प्रदर्शन किया। कोर्डिनेशन कमेटी ऑफ गवर्नमेंट एंड एमसी इम्प्लाइज एंड वर्कर्स यूटी के बैनर तले हुए प्रदर्शन के दौरान मांगें पूरी न करने के लिए कर्मचारियों ने प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

कमेटी के प्रधान सतिंदर सिंह, महासचिव राकेश कुमार, संरक्षक शाम लाल घावरी, चेयरमैन अनिल कुमार ने कहा कि प्रशासन कर्मचारियों की मांगों को लेकर संजीदा नहीं है। प्रशासन और एमसी में काम कर रहे आउटसोर्स कर्मियों का जेम पोर्टल के ठेकेदार लगातार आर्थिक शोषण कर रहे हैं। ठेकेदार कर्मचारियों को न तो समय पर सैलरी देते हैं, वहीं सैलरी से गैर कानूनी ढंग से कटौती की जा रही है।

नौकरी में बने रहने के लिए 15 से 20 हजार रुपए देने के लिए मजबूर किया जा रहा है, ऐसा लगातार चल रहा है। लेकिन प्रशासन के अफसर मूक दर्शक बने बैठे हैं। आउटसोर्स कर्मचारियों के डीसी रेट नहीं बढ़ाए जा रहे हैं। प्रदर्शन में दलजीत सिंह, रविंदर सिंह, दविंदर सिंह, कर्मजीत सिंह, गुरमेल सिंह, किशोरी लाल, वरिंदर सिंह, सुखवंत सिंह,जसविंदर सिंह, रघुवीर सिंह, चरणजीत सिंह, राहुल वैद, कमल कल्याण, नरेश कुमार, शीशपाल, करमजीत सिंह, वरिंदर सिंह आदि मौजूद रहे।

मांगें न मानने पर विरोध प्रदर्शन की तैयारी

जॉइंट एक्शन कमेटी ऑफ चंडीगढ़ एडमिनिस्ट्रेशन एंड एमसी इम्प्लॉइज एंड वर्कर्स की गेट मीटिंग हुई। जॉइंट एक्शन कमेटी के कन्वीनर अश्वनी कुमार ने कहा कि आउटसोर्स कर्मियों का डीसी रेट प्रशासन ने अभी तक नहीं बढ़ाया। इसे पहली अप्रैल से बढ़ाया जाना था लेकिन प्रशासन वायदे से मुकर गया है। आउटसोर्स कर्मचारियों का लगातार शोषण हो रहा है लेकिन प्रशासन ने आंखें मूंद रखी हैं। आउटसोर्स कर्मचारियों को नौकरी पर रखने के लिए सरेआम पैसे की मांग कर रहे हैं। उन्होंने कहाकि कर्मचारियों की मांगों काे जल्द से जल्द हल किया जाए अन्यथा कर्मचारी बड़ा आंदोलन करने के लिए मजबूर होंगे। मीटिंग को जॉइंट एक्शन कमेटी के चेयरमैन सुरमुख सिंह ने भी संबोधित किया।



Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here