ट्विंकल खन्ना ने दान किए 250 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स, कोरोना से जंग में लगातार कर रही हैं देश की मदद

0
2


ट्विंकल खन्ना अपने एसजीओ के जरिये कोविड-19 पीड़ितों की मदद कर रही हैं (फोटो साभारः Instagram/Twinkle Khanna)

बॉलीवुड (Bollywood) इस समय कोविड-19 (Covid-19) पीड़ितों की मदद के लिए मिल-जुल कर काम कर रहा है. अब सोशल मीडिया पर ट्विंकल खन्ना (Twinkle Khanna) ने जानकारी दी है कि उन्होंने 250 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स (Oxygen Concentrators) फिर दान किए हैं.

नई दिल्लीः कोविड-19 (Covid-19) महामारी की दूसरी लहर ने देश को झकझोर कर रख दिया है. इसके चलते लाखों लोग अपनी जिंदगी गवां चुके हैं. आम से लेकर खास लोग तक, कोविड-19 पीड़ितों के लिए कुछ-न-कुछ करने की कोशिश कर रहे हैं. बॉलीवुड (Bollywood) भी अब इसमें पीछे नहीं है. कई बड़े सितारे पीड़ितों की मदद को आगे आए हैं. वे अपने हिसाब से ऑक्सीजन सिलेंडर, दवाएं और अस्पताल में बेड दिलवाने के काम में लगे हुए हैं. कई स्टार्स ने सोशल मीडिया (Social Media) के जरिये जरूरतमंदों की मदद करने का फैसला किया है. हाल में अक्षय कुमार (Akshay Kumar) ने 100 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स (Oxygen Concentrators) दान करने का फैसला किया था. अब एक्टर की पत्नी ट्विंकल खन्ना (Twinkle Khanna) ने मदद का हाथ आगे बढ़ाया है. अक्षय कुमार के बाद ट्विंकल खन्ना ने भी दान किया है. एक्ट्रेस ने कुछ देर पहले ही, अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से जानकारी दी है कि उन्होंने ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स के 250 यूनिट फिर से दान किए हैं साथ में, एक्ट्रेस ने 5,000 नोज प्रवेशनी भी दान किए हैं. एक्ट्रेस ने यह भी खुलासा किया कि उन्होंने अपने एनजीओ (NGO) को मिले फंड से यह नेक काम किया है. इसके लिए एक्ट्रेस ने सभी का शुक्रिया अदा किया है. एक्ट्रेस ने लिखा, ‘मुझे खुशी है कि लोगों ने मेरे इस नेक काम में साथ दिया.’

(फोटो साभारः Instagram/Twinkle Khanna)

देविका फाउंडेशन के साथ मिलकर एक्ट्रेस ने यह नेक काम किया है. इससे पहले, एक्ट्रेस सुष्मिता सेन ने दिल्ली के एक अस्पताल के लोगों को ऑक्सीजन सिलेंडर दिलवाने में मदद की थी, जिसके बाद लोगों ने एक्ट्रेस की खूब तारीफ की थी. बता दें कि ऑक्सीजन कंसंट्रेटर हवा से ऑक्सीजन को अलग करता है. कंसंट्रेटर हवा में से ऑक्सीजन को बाकी गैसों से अलग करके सिलेंडर में स्टोर कर देता है. इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि ऑक्सीजन सिलेंडर को बार-बार रिफिल करने की जरूरत खत्म हो जाती है. ये मरीज को 95 प्रतिशत तक शुद्ध ऑक्सीजन उपलब्ध कराता है.







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here