जानें डेटिंग की 4 स्टेज, जो रखेंगी मजबूत रिश्‍ते की बुनियाद

0
1


अच्‍छाइयों के अलावा खामियों का भी जिक्र करें. Image Credit: Asad-Photo-Maldives/Pexels

डेटिंग (Dating) की अंतिम स्‍टेज तक आते-आते दो लोगों में लगाव, प्रेम अधिक गहरा हो जाता है और वे रिश्ते (Relation) में बंधने के लिए तैयार हो जाते हैं. इस दौरान वे एक-दूसरे को अच्‍छी तरह समझने लगते हैं.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    January 13, 2021, 6:58 PM IST

प्यार में पड़ना और एक दूसरे के बने रहने का वादा करना ऐसी भावनाएं (Emotions) हैं जिनका अनुभव अक्‍सर लोग करते हैं. मगर जरूरी नहीं कि इसे निभा भी पाएं. ऐसा इसलिए होता है कि अक्‍सर जब लोग किसी को पसंद करते हैं तो उसकी बुराइयों को नजरअंदाज करते जाते हैं. मगर लंबे समय बाद जब उसकी खामियां सामने आने लगती हैं, तो रिश्‍ता (Relation) कमजोर होता जाता है और अंत में टूट भी सकता है. लेकिन अगर आपके रिश्‍ते की शुरुआत एक दूसरे को समझने और अपने साथी को उसकी अच्‍छाइयों, बुराइयों के साथ स्‍वीकार करने से हुई है, तो आपका रिश्‍ता समय के साथ मजबूत होता जाता है. ऐसे में जरूरी है कि डेटिंग (Dating) के शुरुआती समय में आप किसी तरह की जल्‍दबाजी न करते हुए एक दूसरे को समझने में समय बिताएं.

एक दूसरे को जानने से करें शुरुआत
डेटिंग के अगले चरणों में आगे बढ़ते हुए यकीनन लोग अपने मोबाइल नंबरों का आदान-प्रदान कर लेते हैं और इसके बाद मैसेज भी करने शुरू कर दिए जाते हैं. धीरे-धीरे बातचीत का प्रवाह गहरा हो जाता है और आप अपने साथी के गुणों को ही देखते हैं. उसकी खामियों पर आंखें मूंदे रहते हैं. यह सही है कि लंबे समय तक आप किसी से ऐसे शख्‍स से दूरी बना कर नहीं रख सकते जिसे आप पसंद करते हों, मगर खुद को नियंत्रण में रखना जरूरी है. आप आगे बढ़ने की शुरुआत एक स्वस्थ बातचीत से करें. एक दूसरे के साथ सहज होने के बाद एक दूसरे को बेहतर तरीक से जानना अगला और बेहतर कदम कहा जा सकता है.

ये भी पढ़ें – 20 से सबक लेकर 2021 में लें ये संकल्‍प, रिश्‍तों में आएगी मिठासमिलने की जल्‍दी न दिखाएं

खुद को किसी के आकर्षक में महसूस करना डेटिंग की पहली स्‍टेज कही जा सकती है. यह बहुत अच्‍छी शुरुआत है. इसमें अक्‍सर हम मिलने की आतुरता बनी रहती है. ऐसे में हम इस बारे में कभी नहीं सोचते कि किसी अंजाने से मिलना हमारे लिए खतरनाक भी हो सकता है. ऐसे में जरूरी है कि आप मिलने की जल्‍दी न दिखाएं. पहले उस व्‍यक्ति के बारे में सही से जान लें फिर अगला कदम बढ़ाएं.

खामियों के साथ स्‍वीकारें
एक दूसरे की अच्‍छाइयों के अलावा अपनी खामियों का भी जिक्र करें और देखें कि सामने वाले पर इसका क्‍या असर होता है. आप खुल कर बात करें. हो सकता है कि उसके बारे में सुनने के बाद आपके मन में कई सवाल उठें कि क्या यह व्यक्ति मेरे लिए सही है? क्या हम एक अच्छी जोड़ी बनने जा रहे हैं? आप खुद को असुरक्षा से घिरा हुआ भी पा सकते हैं. डेटिंग के ऐसे चरण आपके रिश्ते में महत्वपूर्ण मोड़ हो सकते हैं. अगर आप सच्चे और लगन से प्यार करते हैं, तो आप अपने साथी की कमियों को दिल से स्वीकार करेंगे, क्योंकि आपने पार्टनर को उसकी खामियों के साथ स्वीकार किया है.

ये भी पढ़ें – लिव इन रिलेशन में रहते हैं तो फॉलो करें ये रूल्स, बनी रहेगी रिश्‍ते की खूबसूरती

बेहतर रिश्‍ते के लिए हैं तैयार
डेटिंग की इस स्‍टेज तक आते आते दो लोगों में लगाव, प्रेम अधिक गहरा हो जाता है और आप रिश्ते में बंधने के लिए तैयार हो जाते हैं. अपने रिश्ते की अवधि के दौरान दो लोगों के बीच बनाया गया विश्वास और भी मजबूत होता है. आपने अपने साथी के व्यक्तित्व के सभी पहलुओं को जान लिया होता है. आप एक-दूसरे की पसंद, नापसंद, सपनों, उम्‍मीदों और विचारों का सम्मान करने लगते हैं.








Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here