ग्रेप के उल्लंघन पर 29 का चालान, 7.25 लाख जुर्माना लगाया; अभी भी पॉल्यूशन से राहत नहीं

0
1


गुड़गांवएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

गुड़गांव. अतिरिक्त निगमायुक्त की अध्यक्षता में ग्रेप की पालना को लेकर बैठक में मौजूद अधिकारी।

  • सेक्टर-51 एयर क्वालिटी इंडेक्स 344 दर्ज, अन्य प्रदूषण मापक यंत्रों पर 300 के करीब रहा सूचकांक

गुड़गांव में पॉल्यूशन लगातार बढ़ रहा है। ग्रेप (ग्रेडिड रिस्पांस एक्शन प्लान) लागू हुए तीसरा दिन है, लेकिन शनिवार को भी सबसे अधिक प्रदूषित सेक्टर-51 व न्यू गुड़गांव रहा, जहां वायु गुणवत्ता सूचकांक 344 दर्ज किया गया। रात 10 बजे से सुबह छह बजे तक खतरनाक स्तर तक पॉल्यूशन पहुंच रहा है।

वहीं ग्रेप की पालना सुनिश्चित करवाने के लिए नगर निगम द्वारा अवहेलना करने वालों के चालान कर जुर्माना किया जा रहा है। वहीं दूसरी ओर प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए सड़कों एवं पेड़ों पर पानी का छिड़काव करने के साथ ही सफाई के लिए मेकेनिकल प्रणाली अपनाई जा रही है। निगम कमिश्नर के निर्देश पर गठित टीमें क्षेत्र में लगातार निगरानी कर रही हैं।

टीमों द्वारा क्षेत्र में चल रही निर्माण साइटों का दौरा करते हुए पर्यावरण नियमों की अवहेलना पाए जाने पर 29 लोगों पर 7 लाख 25 हजार रुपए का जुर्माना किया गया तथा मौके पर ही निर्माण साइट तथा निर्माण सामग्री को कवर करवाया। नगर निगम गुरुग्राम की अतिरिक्त आयुक्त जसप्रीत कौर ने कहा कि ग्रेप की पालना सुनिश्चित करवाने के लिए नगर निगम गंभीर है।

उन्होंने नागरिकों से आह्वान किया कि वे पर्यावरण प्रदूषण बढ़ाने वाली गतिविधियां न करें। निर्माण साइटों तथा निर्माण सामग्री को ढककर रखें। किसी भी प्रकार के कचरे में आग ना लगाएं। सार्वजनिक स्थानों पर कचरा और मलबा न डालें तथा निर्माण सामग्री को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाते समय ढककर ले जाएं।

नगर निगम द्वारा इस बारे में सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। सड़कों व पेड़ों पर एसटीपी से ट्रिटिड पानी का छिड़काव लगातार जारी है और सड़कों की सफाई मेकेनिकल ढंग से की जा रही है, जिससे कि धूल न उड़े।

नगर निगम गुरूग्राम की अतिरिक्त आयुक्त जसप्रीत कौर ने शनिवार को स्पष्ट रूप से अधिकारियों से कहा कि वे पर्यावरणीय प्रदूषण (नियंत्रण एवं रोकथाम) प्राधिकरण द्वारा लागू किए गए ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान की पालना गंभीरता से सुनिश्चित करवाएं। अगर कोई व्यक्ति प्रदूषण बढ़ाने वाली गतिविधियां करता है, तो उसका चालान करने के अलावा एफआईआर भी दर्ज करवाएं।

यह निर्देश शनिवार को अतिरिक्त निगमायुक्त ने निगम कार्यालय में ग्रेप की पालना सुनिश्चित करने को लेकर आयोजित बैठक में दिए। उन्होंने कहा कि निर्माण गतिविधियों में पर्यावरणीय नियमों की उल्लंघना करने वालों, कचरे में आग जलाने वालों, बिना ढके निर्माण सामग्री रखने एवं ट्रांसपोर्ट करने वालों, सीएंडडी वेस्ट एवं कचरा डालने वालों सहित प्रदूषण बढ़ाने वाली अन्य गतिविधियां करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें।

पॉल्यूशन मापक यंत्रों पर ये रही स्थिति
गुड़गांव सेक्टर-51 में सबसे अधिक एयर क्वालिटी इंडेक्स 344 दर्ज किया गया। जबकि मानेसर में 241, फरीदाबाद-गुड़गांव रोड पर स्थित नाइस स्थित एचएसपीसीबी के मापक यंत्र पर 284 व विकास सदन स्थित प्रदूषण मापक यंत्र पर एक्यूआई 283 रहा।

ऐसे में पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारियों को सेक्टर-51 के आसपास पॉल्यूशन के कारणों पर ध्यान देने की जरूरत अधिक है। यह पिछले एक सप्ताह से सबसे अधिक पॉल्यूशन का स्तर बना हुआ है।



Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here