कोहरा हमारी सेहत पर डाल रहा बेहद बुरा असर, हो रही हैं ये हेल्‍थ प्रॉब्‍लम्‍स

0
1


उत्तर भारत (North India weather) के कई राज्य शीत लहर की चपेट में हैं. राजधानी दिल्ली, हरियाणा, पंजाब समेत पूरे उत्तर भारत में इन दिनों कड़ाके की सर्दी (Severe Cold Wave) पड़ रही है. साथ ही पंजाब, हरियाणा, दिल्ली-एनसीआर में घना कोहरा (Dense Fog) छाया हुआ है, जोकि अभी कई दिन तक बने रहने की संभावना है. इसके अलावा दिल्‍ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण का स्‍तर गंभीर बना हुआ है.

मौसम में बदलाव, घना कोहरा और प्रदूषण (Pollution) इंसानी स्‍वास्‍थ्‍य पर बेहद बुरा प्रभाव डाल रहे हैं. मौजूदा मौसम न केवल हमारे फेफड़ों, बल्कि आंखों पर प्रतिकूल असर डाल रहे हैं, जिससे कई तक की बीमारियों होने की संभावना है.

जानिए यह मौसम कैसे हमारे शरीर पर डाल रहा बुरा असर…
फेफड़े से संबंधित प्रभाव:
घने कोहरे में पार्टिकुलेट मैटर और अन्य प्रदूषक शामिल होते हैं और अगर यह फेफड़ों में जमा हो जाते हैं और उनकी कार्यात्मक क्षमता को कम कर देते हैं. इससे घरघराहट, खांसी और सांस की तकलीफ बढ़ रही हैं.अस्थमा ब्रोंकाइटिस से पीड़ित लोगों पर प्रभाव: लंबे समय तक घने कोहरे के संपर्क में रहने से अस्थमा ब्रोंकाइटिस और फेफड़ों से संबंधित अन्य स्वास्थ्य समस्याओं वाले लोगों को सांस लेने संबंधी समस्या हो सकती है.

आंखों में तकलीफ : घने कोहरे में विभिन्न प्रकार के प्रदूषक होते हैं और हवा में इन प्रदूषकों के संपर्क में आने पर आंखों की झिल्लियों में जलन होती है, जिससे विभिन्न संक्रमण हो सकते हैं, जिससे आंखों में लालिमा या सूजन की शिकायतें सामने आ रही हैं.

बचने के लिए करें ये काम
डॉक्‍टरों की सलाह है कि इन सबसे बचने के लिए ज्‍यादा से ज्‍यादा घर के अंदर रहने की कोशिश करें और अपने चेहरे को ढंककर रखें.

शारीरिक गतिविधियां थोड़ा कम करें. सुबह और शाम वॉक करने से भी बचें.

अगर आपको कफ, छाती में बेचैनी, सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्‍याएं हो रही हैं तो तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें.

लकड़ी या मोमबत्‍ती जलाने या इनके धुएं के प्रभाव में आने से बचें.

N-95 या P-100 जैसे मास्‍क पहनें





Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here