Advertisement

कोरोना से बिहार के सीनियर IPS विनोद कुमार की मौत, पूर्णिया रेंज के थे आईजी


पूर्णिया के आईजी विनोद कुमार का निधन (फाइल फोटो)

बिहार के पूर्णिया रेंज के आईजी विनोद कुमार की मौत की खबर मिलते ही प्रशासनिक खेमे में शोक की लहर दौड़ गई. विनोद कुमार की उम्र 59 साल थी. वो पूर्णिया रेंज के पहले आईजी थे.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 18, 2020, 11:01 AM IST

पटना. इस वक्त की बड़ी खबर बिहार की राजधानी पटना से आ रही है जहां भारतीय पुलिस सेवा (IPS) के एक वरीय अधिकारी का कोरोना से निधन हो गया है. बिहार कैडर के आईपीएस अधिकारी और पूर्णिया रेंज के आईजी विनोद कुमार (Purnia IG Vinod Kumar) कोरोना से बीमार होने के बाद पिछले 4 दिनों से पटना एम्स में भर्ती थे जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. विनोद कुमार की मौत शनिवार की रात 11 बजे हुई.

मंत्री का भी हो चुका है निधन

59 साल के विनोद सिंह डायबिटीज के भी पेशेंट थे. उनकी मौत की जानकारी एम्स के अधीक्षक डॉ सी एम सिंह ने दी है. बिहार सरकार के इस पुलिस अधिकारी की मौत की खबर ने पुलिस महकमें में शोक की लहर फैला दी है.आईजी विनोद कुमार से पहले, बिहार सरकार के एक मंत्री का भी कोरोना से निधन हो गया था. शुक्रवार की सुबह ही बिहार में नीतीश सरकरा के पंचायती राज मंत्री कपिल देव कामत का निधन हो गया था. मधुबनी के बाबूबरही से विधायक कामत कोरोना से पीड़ित थे और कई दिनों तक गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती रहे थे.

पूर्णिया रेंज के पहले आईजी विनोद कुमार पूर्णिया प्रक्षेत्र के पहले आईजी बने थे. इससे पहले पूर्णिया में डीआईजी बैठा करते थे. आईजी विनोद कुमार 2001 बैच के आईपीएस ऑफिसर थे. वो नालंदा  जिला के बिहार शरीफ के रहने वाले थे. 15 अगस्त 2019 को पूर्णिया प्रक्षेत्र के पहले आईजी के रूप में इनका नोटिफिकेशन हुआ था और 20 अगस्त 2019 को उन्होंने पूर्णिया में योगदान किया था. इससे पहले वो भागलपुर में आईजी रहे थे. इसके अलावा दरभंगा और एसटीएफ के डीआईजी रह चुके थे. वो सुपौल के एसपी और मुजफ्फरपुर रेल के एसपी भी रह चुके थे.

कोरोना होने के बाद गए थे पटना

आईजी विनोद कुमार का शुक्रवार को कोरोना जांच हुआ था जिसमें वो पॉजिटिव आए थेॉ और इसके बाद वो उसी दिन पटना एम्स चले गए थे जहां इलाज के दौरान देर रात  उनका निधन हो गया. उनके निधन से पूर्णिया के पुलिस मेंस एसोसिएशन और पुलिस पदाधिकारियों में शोक व्याप्त है. आईजी विनोद कुमार काफी मृदुभाषी थे और अपने कर्तव्य के प्रति काफी सजग थे. आईजी ऑफिस के स्टाफ ने बताया कि 3 दिन पहले तक वो ड्यूटी पर थे और फाइल में सिग्नेचर वगैरह करते थे. उनके व्यवहार से कार्यालय के सभी स्टाफ और पुलिसकर्मी काफी खुश रहते थे.

पुलिसकर्मी शोकाकुल

आईजी के निधन से पुलिसकर्मियों में शोक व्याप्त है. मालूम हो कि चुनाव की तैयारियों के बीच ही बिहार में कोरोना का कहर भी लगातार जारी है. आईजी विनोद कुमार बिहार के सीमांचल यानी पूर्णिया रेंज के पहले आईजी थे. उनके असामयिक निधन से इलाके का पूरा पुलिस महकमा शोकाकुल है.





Source link

Advertisement
sabhijankari:
Advertisement