कोरोना ने ट्रेंड बदला: कोरोना के डर से भारतीयों ने कारों का मार्केट को दी रफ्तार, पिछले पांच महीने में 18% की बढ़ोतरी, 2-व्हीलर की सेल्स की गति धीमी

0
1


  • Hindi News
  • Tech auto
  • Fear Of Corona Gives Indians A Boost To The Car Market, Up 18% In Last Five Months, 2 wheeler Sales Slow

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अहमदाबाद41 मिनट पहलेलेखक: विमुक्त दवे

  • कॉपी लिंक
  • पिछले कुछ महीनो से 2-व्हीलर की तुलना में कार की सेल्स में ग्रोथ जारी
  • कोरोना के चलते लोग पब्लिक ट्रांसपोर्ट की बजाय अपनी गाड़ी में ट्रैवल कर रहे हैं

ऑटोमोबाइल सेक्टर वैसे तो पिछले दो सालों से मंदी का सामना कर रहा है। लेकिन, कोरोना के आने से सेक्टर के रिवाइवल को बड़ा झटका दे दिया है। लेकिन, इस सेक्टर में पैसेंजर व्हीकल सेगमेंट को कोरोना से फायदा हो रहा है। कहावत है कि ‘जान है तो जहान है’। कोरोना आने के बाद स्वास्थ्य की सेफ्टी को लेकर लोग सजग हुए। यही कारण है कि वे पब्लिक ट्रांसपोर्ट के उपयोग से बच रहे हैं और अपने व्हीकल में ही यात्रा करना पसंद कर रहे हैं। इसी के चलते इस साल 2-व्हीलर की तुलना में कार की बिक्री बढ़ी है।

भारत में कार और 2-व्हीलर की सेल्स ग्रोथ

महीना पैंसेजर व्हीकल बिक्री ग्रोथ 2-व्हीलर बिक्री ग्रोथ
मई 30,749 1,59,039
जून 1,26,471 311.3 7,90,118 396.8
जुलाई 1,57,373 24.43 8,74,638 10.69
अगस्त 1,78,513 13.43 8,98,775 2.75
सितंबर 1,95,665 9.6 10,16,977 13.15
अक्टूबर 2,49,860 27.69 1041682 2.42
नवंबर 2,91,001 16.46 1413378 35.68
सोर्स – फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन (फाडा)

बजट के बाहर जाकर लोग खरीद रहे कार
फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन (फाडा) के प्रमुख विंकेष गुलाटी बताते हैं कि कोरोना के चलते लोगों की सोच बदल गई है। जो व्यक्ति पहले अपने लिए 2-व्हीलर खरीदने के बारे में सोचता था, वह अब परिवार की सेफ्टी के चलते अपने बजट से बाहर जाकर भी कार खरीद रहा है। यानी की परिवार की सेफ्टी ही प्रायोरिटी पर रखी जा रही है। यही कारण है कि पैसेंजर व्हीकल सेगमेंट में कारों की ज्यादा बिक्री हो रही है। वहीं, टू-व्हीकल सेगमेंट में रिवाइवल आने में अभी थोड़ा और समय लगेगा।

अपनी कार में होती है पूरी सेफ्टी
पैसेंजर व्हीकल में ग्रोथ रेट बढ़ने के बारे में ऐमराल्ड होंडा के सीईओ रजनीश अरोरा का कहना है कि ऐसा पहली बार ही हो रहा है कि 2-व्हीलर की तुलना में कार की सेल ज्यादा है। कारण साफ है कि व्यक्ति खुद की और परिवार की सेफ्टी के बारे में सोचने लगा है। जो लोग पहले पब्लिक ट्रांसपोर्ट या कंपनी के वाहनों में सफर करते थे, वे अब उससे बच रहे हैं और अपनी सेफ्टी के लिए कार खरीद रहे हैं। इसी के चलते गुजरात सहित देश भर में कारों की सेल्स ग्रोथ बढ़ी है।

मीडियम क्लास, स्टूडेंट्स की डिमांड कम हुई
फाडा के प्रमुख विंकेष गुलाटी बताते हैं कि कोरोना का सबसे ज्यादा असर मीडियम क्लास को हुआ है। वहीं, इस वर्ग की प्राथमिकता में टू-व्हीलर ही रहते हैं, लेकिन कोरोना के चलते जॉब लॉस या आय में कमी होने की मार मीडियम क्लास पर ही ज्यादा पड़ी, जिससे टू-व्हीलर की खरीदी में कमी आई। इसके अलावा टू-व्हीलर का सबसे बड़ा ग्राहक वर्ग स्टूडेंट्स हैं, लेकिन इस साल स्कूल-कॉलेज बंद होने के चलते स्टूडेंट्स ने भी खरीदी नहीं की। स्कूटर सेगमेंट में मंदी के यही दो बड़े कारण रहे।

फ़ेस्टिवल पीरियड में टू-व्हीलर की डिमांड बढ़ी थी
आंकड़ों को देखें तो फेस्टिवल पीरियड में टू-व्हीलर की डिमांड में कुछ बढ़ोतरी दर्ज की गई थी। जबकि बाकी के महीनों में इसका बाजार सुस्त रहा। दूसरी तरफ, कार की सेल्स ग्रोथ लगातार बढ़ रही है। ऑटोमोबाइल डीलर्स के बताए अनुसार हाल की स्थिति में यह ट्रेंड अगले 4-5 महीनों तक जारी रहने वाला है। पैसेंजर व्हीकल में जो ग्रोथ आई है वह खासतौर पर एंट्री लेवल कार अथवा कॉम्पैक्ट कारों की अधिक बिक्री के चलते आई है।

टू-व्हीलर सेगमेंट में आगामी दिनों में सुधार की उम्मीद
सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्यूफैक्चर्स (SIAM) के डायरेक्टर जनरल राजेश मेन का इस बारे में कहना है कि फिलहाल टू-व्हीलर की रिटेल सेलिंग बहुत कम है। वहीं, उत्पादकों की ओर से सप्लाइ नियमित जारी है, क्योंकि उन्हें आशा है कि आगामी समय में टू-व्हीलर सेगमेंट में तेजी आएगी। ओवरऑल बात करें तो इस साल अप्रैल से नवंबर तक पिछले साल की तुलना में पैसेंजर व्हीकल की बिक्री 20.57% कम हुई है, जबकि टू-व्हीलर में 25.08% की कमी दर्ज की गई है।

सेगमेंट अप्रैल-नबंवर 2019 अप्रैल-नवंबर 2020 अंतर
पैसेंजर व्हीकल 18.58 लाख 14.76 लाख -20.57%
टू-व्हीलर 1.86 करोड़ 96.37 लाख -25.08%
सोर्स : सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चर्स (SIAM)

गुजरात में भी पैसेंजर कार में सेल्स ग्रोथ बढ़ी
कोरोना के बाद अनलॉक की स्थिति के अनुसार देखें तो गुजरात में बी टू-व्हीलर की तुलना में पैसेंजर व्हीकल की बिक्री में ग्रोध ज्यादा है। फाडा के अगस्त, सितंबर और अक्टूबर के आंकड़ों के अनुसार गुजरात में वाहनों की बिक्री में तकरीबन 15% ग्रोथ हुई है। वहीं, टू-व्हीलर में 11% की ग्रोथ रही है।

गुजरात में कार और टू-व्हीलर की बिक्री और सेल्स ग्रोथ

महीना कार अंतर (%) स्कूटर अंतर (%)
मई 790 2793
जून 12432 1473.67 41209 1375.43
जुलाई 14331 15.27 45731 10.97
अगस्त 16821 17.34 46486 1.65
सितंबर 14842 11.76 36403 21.69
सोर्स – फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन (फाडा)



Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here