कोरोना: दिल्ली में संक्रमण दर में कमी के कारण अस्पतालों में मरीजों की संख्या घटी

0
2


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली6 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • एलएनजेपी में दो हजार बेड में से 300 बेड्स पर मरीज हैं भर्ती

दिल्ली में पिछले कुछ दिनों से आ रहे संक्रमित मरीजों के आंकड़े कोरोना के कमजोर पड़ने को लेकर अच्छे संकेत दे रहे हैं। संक्रमण रेट भी लगातार गिर रहा है, वहीं रिकवरी रेट में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। वहीं सबसे बड़े कोरोना अस्पताल एलएनजेपी की तो मौजूदा समय में अस्पताल में करीब 1700 बेड खाली पड़े हुए हैं।

चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि मौसम में आए सुधार के कारण कोरोना संक्रमण के आंकड़ों में सुधार हो रहा है। आने वाले समय में कोरोना के मामलों मे और कमी आ सकती है। कोरोना को मात देने के लिए कोविड-19 के नियमों का पालन करना जरुरी है।

अस्पताल के निदेशक डॉक्टर सुरेश कुमार ने बताया कि दिल्ली का लोक नायक अस्पताल 2000 बेड की क्षमता वाला अस्पताल है। जिसमें इस वक्त अस्पताल में 290 के करीब ही मरीज भर्ती हैं। जिसके चलते करीब 1700 बेड खाली पड़े हुए हैं। डॉक्टर ने बताया कि 15 दिनों पहले तक स्थिति काफी चिंताजनक थी 600 से 700 तक मरीज गंभीर स्थिति में अस्पताल में भर्ती थे।

डॉक्टर ने कहा कि मौजूदा समय में नए मरीज अस्पताल में कम भर्ती हो रहे हैं और जो पुराने मरीज हैं, वह भी जल्दी रिकवर होकर अपने घर जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि संक्रमण दर 4 फीसदी से भी घटकर नीचे पहुंच गई है और रिकवरी रेट 95 फीसदी से ज़्यादा है जो कोरोना के खात्मे को लेकर अच्छे संकेत हैं।

वैक्सीन के लिए भेजी स्वास्थ्यकर्मियों की सूची

डॉ सुरेश कुमार ने कहा कि अब सिर्फ केवल वैक्सीन का इंतजार है और इसके लिए अस्पताल प्रशासन ने भी सभी तैयारियां पूरी कर ली है। अस्पताल द्वारा अपने डॉक्टर व मेडिकल स्टाफ कर्मचारियों की सूची एक दिल्ली और दूसरी केंद्र सरकार को भेज दी गई है। जिससे कि वैक्सीन आने पर सबसे पहले फ्रंट लाइन वॉरियर्स तक ये यह पहुंचाई जा सके।



Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here