कोरोना का कहर: गुड़गांव में 24 घंटे में कोरोना के 864 मामले आए सामने, एक पेशेंट की मौत

0
2


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गुड़गांव8 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

गुड़गांव. आईएमटी मानेसर में कोरोना टीका लगवाते लोग।

  • जिले में कुल कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 69 हजार के पार पहुंचा

जिला में तेजी से संक्रमण फैलने लगा है। शनिवार को 24 घंटे में 864 नए पेशेंट की पहचान हुई। वहीं एक पेशेंट ने संक्रमण के कारण दम तोड़ दिया। जिससे अब तक कोरोना से मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 369 हो गई।

वहीं शनिवार तक जिला में कुल संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 69 हजार के पार हो गया। इसके अलावा एक्टिव केस भी बढ़कर 5013 तक पहुंच गए, जिनमें से 361 पेशेंट अलग-अलग अस्पतालों में एडमिट किए गए हैं।

वहीं दूसरी ओर बढ़ते संक्रमण देखते हुए सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों व क्रेच के अलावा आठवीं तक के स्कूलों को भी 30 अप्रैल तक बंद रखने के आदेश जारी कर दिए गए हैं। गुड़गांव में कोरोना के केसों में तेज से इजाफा हो रहा है।

अप्रैल महीने के दस दिन में ही 6044 नए पेशेंट की पहचान हो चुकी है। लेकिन पेशेंट्स रिकवर बहुत कम हो रहे हैं। ऐसे में शनिवार को भी जहां 864 नए केस मिले, वहीं 441 पेशेंट रिकवर होकर घर लौट गए।

अप्रैल महीने के दस दिन में पांच पेशेंट की मौत हो चुकी है। गुड़गांव में पिछले 13 महीने में 10 लोगों के कोरोना टेस्ट किए जा चुके हैं, जिनमें से 69057 पॉजिटिव केस मिल चुके हैं। जबकि इनमें से 369 की मौत हो चुकी है। अकेले अप्रैल महीने में ही 67631 लोगों की जांच की जा चुकी है।

वहीं मार्च महीने में 114592 लोगों के टेस्ट किए गए थे। इसी तरह जिला में अप्रैल महीने में रोजाना औसतन 6763 लोगों के टेस्ट किए जा रहे हैं। हालांकि इनमें से रोजाना करीब चार हजार पेशेंट की रिपोर्ट नहीं मिल पा रही है।

स्कूल, आंगनबाड़ी केन्द्र व क्रेच 30 अप्रैल तक रहेंगे बंद

प्रदेश सरकार ने 30 अप्रैल तक प्रदेश के सभी राजकीय और निजी स्कूलों में पहली से आठवीं तक की कक्षाओं के लिये अवकाश घोषित किया है, परन्तु इस दौरान अध्यापक निर्धारित समय अनुसार ड्यूटी पर आएंगे।

वे रिजल्ट बनाने, दाखिले करने आदि सहित प्रशासनिक कार्य निपटाएंगे। इस दौरान कोविड अनुकूल व्यवहार जैसे मास्क लगाना, सोशल डिस्टेंसिंग , हाथों की सफाई और सेनिटाइजेसन का कड़ाई से पालन जरूरी है। सरकार ने प्रदेश में सभी आंगनवाड़ी केंद्र तथा क्रेच भी 30 अप्रैल तक बंद रखने के आदेश दिए हैं।

इस दौरान महिला एवं बाल विकास विभाग का अमला लॉक डाउन के दिनों की तरह पूरक पोषक आहार सहित सेवाएं लाभार्थियों के घर द्वार पर पहुंचाएगा। केवल टीकाकरण के लिये ही लाभार्थियों को कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए आंगनवाड़ी केंद्रों में बुलाया जाएगा। एक समय पर 20 से ज्यादा लाभार्थियों को केंद्र पर एकत्रित नहीं होने दिया जाएगा। आंगनवाड़ी केंद्रों को सैनीटॉईज भी किया जाएगा।

खबरें और भी हैं…



Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here