कोरोना कर्फ्यू की धज्जियां: एक परमिट पर तीसरी बार मजदूरों को बिहार ले जा रही बस RTO ने पकड़ी

0
1


ऊना में पकड़ी बस. मजदूरों को लेकर जा रही थी बिहार.

प्रवासियों से प्रति सवारी 2000 रुपए लिए गए हैं. आरटीओ ऊना आरसी कटोच ने इस मामले में कार्रवाई की और मामला जिलाधीश ऊना राघव शर्मा को भेज दिया. आरटीओ आरसी कटोच ने कहा कि सब्जी मंडी ऊना के पास एक प्राईवेट बस को पकड़ा है, जिसमें 24 सवारियां थी.

ऊना. कई लोग प्रदेश में कोरोना कर्फ्यू का उल्लंघन करते हुए चांदी कूटने में लगे हैं. करोना संकट में प्रवासियों को लूटना जारी है. बुधवार शाम हिमाचल प्रदेश के ऊना (Una) जिले में सब्जी मंडी के पास आरटीओ विभाग ने कांगड़ा (Kangra) से बिहार जा रही एक प्राइवेट बस को पकड़ा. बस में सभी सीटों पर सवारी थी, यानी कोरोना कर्फ्यू की धज्जियां सरेआम उड़ाई जा रही थी. आरटीओ ने बस को इंपाउंड किया और कार्रवाई करते हुए मामला जिला प्रशासन को भेज दिया. आरटीओ विभाग को सूचना मिली थी कि एक प्राइवेट बस कांगड़ा से बिहार जा रही है. विभाग ने सब्जी मंडी ऊना के पास नाका लगाया.. बस को नाके पर रोका और पाया कि 24 सीट की बस में पूरी सवारियां भरी है. कोई सोशल डिस्टेंसिंग नहीं है. परमिट दिखाने पर पता चला कि कांगड़ा प्रशासन ने कुछ प्रवासियों को बिहार जाने की अनुमति दे राखी थी, लेकिन इसी परमिट की आड़ में तीसरा चक्कर बिहार की ओर लगाया जा रहा था और परमिट भी पुराना है. प्रति सवारी 2000 रुपए लूटे प्रवासियों से प्रति सवारी दो हजार रुपये लिए गए. आरटीओ आरसी कटोच ने कार्रवाई की और मामला जिलाधीश ऊना राघव शर्मा को भेज दिया. कटोच ने कहा कि सब्जी मंडी ऊना के पास एक प्राईवेट बस को पकड़ा है जिसमें 24 सवारियां थी. मोटर वीकल एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है. आरटीओ धर्मशाला ने एक परमिट दिया था, लेकिन तीसरा चक्कर लगाया जा रहा था.घंटों देर रहे विभाग परेशान, सवारियां चिंतित भले ही आरटीओ ऊना आरटी कटोच ने मामला जिलाधीश ऊना को भेज दिया था लेकिन काफी देर तक कोई भी अधिकारी नहीं आया. ऐसे में अगली कार्रवाई को लेकर आरटीओ विभाग भी परेशान रहाऔर बस में बैठी सवारियां भी चिंतित दिखी. आरटीओ परेशान इसलिए थे कि कार्रवाई के बाद बस का क्या किया जाए? वहीं बस में बैठी सवारियां इसलिए चिंतित थी कि आगे जाने दिया जाएगा, या फिर यही से वापिस लौटा दिया जाएगा. लेकिन दोनों की चिंताओं के बीच करीब दो घंटे तक न तो पुलिस पहुंची और न ही जिला प्रशासन की ओर से कोई अधिकारी.







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here