किसान नेताओं ने कहा हक के लिए लड़ाई जारी रहेगी: चंडीगढ़ में गवर्नर हाउस का घेराव करने जाने वाले किसान नेताओं पर शहर के दो थानों में कई धाराओं के तहत मामले दर्ज

0
4


  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Cases Have Been Registered Under Several Sections In Two Police Stations Of The City Against The Farmer Leaders Who Went To Gherao The Governor House In Chandigarh.

चंडीगढ़29 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल और रूलदू मानसा गाड़ी पर चढ़ कर मोहाली से चंडीगढ़ में पहुंचे थे। फाइल फोटो

  • राजेवाल,मानसा सहित कई नेताओं पर मामले दर्ज किए गए

शहर में किसान जत्थेबंदियों की ओर से अपनी मांगों को लेकर शनिवार को पंजाब से आए किसानों ने करीब चार घंटे तक सड़कों पर अपना कब्जा किया हुआ था। किसान पंजाब के राज्यपाल वीपी सिंह बदनौर को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के नाम केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए तीन कृषि सुधार कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर मांगपत्र सौंपने जा रहे थे।

चंडीगढ़ पुलिस की ओर से किसान नेताओं पर कई धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गए है। शहर के सेक्टर-3 थाने में किसान नेता बलदेव सिंह सिरसा, उसके समर्थकों, 17 थाने में दो एफआईआर में बलबीर सिंह राजेवाल, सतनाम बैहरू, रुलदू मानसा, मेहर, ओंकार सिंह, हरिंदर लखोवाल समेत हजारों समर्थकों के खिलाफ डीसी के आदेशों का उल्लंघन, सरकारी कामकाज में बाधा डालने और दंगा करने की धाराओं में केस दर्ज किया है।

पंजाब भर के किसान मोहाली वाईपीएस चौक से शहर में इंटर किए थे और उसके बाद उन्होंने कई बैरिकेड को तोड़ते हुए गवर्नर हाउस से एक चौक पीछे तक पहुंच गए थे। प्रेस लाइट पॉइंट पर किसान नेताओं ने किसानों को समझाते हुए वहीं सड़क पर बैठ कर धरना दिया जिसके बाद डीसी ने आकर उनका मांगपत्र लिया था।

किसान नेताओं का कहना था कि वे कृषि बिलों को वापस लेने के लिए कई बार कह चुके है लेकिन वे कोई प्रयास नहीं कर रहे, इसलिए अब वे देश के राष्ट्रपति को इन कानूनों को खत्म करने के लिए हस्तक्षेप करने की अपील करने के लिए गवर्नर हाउस तक जा रहे है। किसान नेताओं ने कहा कि जब तक कृषि कानूनों को पूरी तरह से खत्म नहीं किया जाता तब तक वे चैन से नहीं बैठेंगे और अपना रोष प्रदर्शन जारी रखेंगे।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here