कांग्रेस का दिल्ली सरकार पर आरोप: अनिल ने कहा- देश में बेरोजगारी दर 11.4%, लेकिन दिल्ली में 45.6 फीसदी पहुंची; केजरीवाल शासन में आधे से अधिक युवा बेरोजगार

0
6


नई दिल्ली3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

प्रेसवार्ता को संबोधित करते दिल्ली कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष।

  • दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष बोले- केजरीवाल की अक्षमता के चलते बेरोजगारी दर में दिल्ली नम्बर वन

दिल्ली में बेरोजगारी की समस्या को लेकर प्रदेश कांग्रेस ने दिल्ली सरकार पर जमकर हमला बोला। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने संवाददाता सम्मेलन कर कहा कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार के लगभग 7 वर्षों के कार्यकाल में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के अक्षमता और निष्क्रियता के कारण 75 वर्षों में देशमें बेरोजगारी दर में नम्बर वन पर पहुच गई हैं।

उन्होंने कहा कि अरविन्द केजरीवाल ने 2015 के घोषणा पत्र में 5 वर्षों में 8 लाख रोजगार देने का वायदा केवल लोगों को गुमराह करने के लिए किया था,जबकि देश सहित दिल्ली में बेरोजगारी की स्थिति पिछले 75 वर्षों में सबसे खराब है और दिल्ली में बेरोजगारी दर देश की औसत से 4 गुणा अधिक है।

अनिल कुमार कहा कि आज जहां देश में बेरोजगारी दर 11.4 प्रतिशत है वही दिल्ली में 45.6 प्रतिशत की बेरोजगारी दर है। जिससे साफ हो जाता है केजरीवाल के शासन में दिल्ली के लगभग आधे युवा बेरोजगार है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार रोजगार निदेशालय ने 2015 से अगस्त 2020 तक सिर्फ 440 बेरोजगार युवाओं को नौकरी दी है, जबकि दिल्ली सरकार में 55,000 पद खाली है जो रोजगार निदेशालय के अनुसार 84% पद खाली है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में रोजगार मुहैया कराने वाले रोजगार कार्यालय भी बंद होने की कगार पर है।

मनरेगा तर्ज पर उपलब्ध करवाए रोजगार
अनिल कुमार ने मांग की कि अरविन्द केजरीवाल दिल्ली में बढ़ती बेरोजगारी दर के अनुपात को कम करने के लिए मनरेगा की तर्ज पर शहरी गारंटी रोजगार योजना कानून तत्काल बनाए ताकि प्रतिवर्ष अपनी शिक्षा पूर्ण करने के पश्चात युवाओं को रोजगार मिल सके। उन्होंने कहा कि बेरोजगार शिक्षित युवाओं को रोजगार पूर्व आर्थिक सहायता देने के लिए उन्हें बेरोजगारी भत्ता दिया जाए। बढ़ती बेरोजगारी के कारण दिल्ली में आपराधिक मामले अधिक बड़ रहे है जिसके लिए सीधे तौर पर आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार जिम्मेदार है।

अनिल कुमार ने कहा कि अरविन्द केजरीवाल ने दिल्ली में मॉडल कैरियर सेंटर सहित दिल्ली स्किल मिशन के तहत 17 लाख युवाओं को ट्रेनिंग देने और व्यवसाय को विकसित करने के 1000 इनक्यूबेटर सेंटर बनाने का वायदा किया था। अनुबंध पर काम करने वाले 4000 डाक्टरों, 15000 नर्सों व पेरामेडिकल स्टॉफ, 2000 गेस्ट टीचर, हजारों सफाई कर्मचारी व अन्य विभागों में चतुर्थ श्रेणी पर काम करने वाले लोगों को पक्का करने का भी केजरीवाल का चुनावी वादा था, क्योंकि उन्होंने अपने 3 शासन काल में एक भी अनुबंधित कर्मचारी का पक्का नही किया।

अनिल कुमार ने कहा कि कोविड महामारी में केजरीवाल सरकार बड़े-बड़े विज्ञापन देकर 27 जुलाई, 2020 को ऑनलाइन वेबसाइट लॉन्च करके रोजगार दिलाने का बात कही थी परंतु दिल्ली सरकार का ऑन लाईन पोर्टल पूरी तरह से विफल साबित हुआ और मात्र 3.6 प्रतिशत लोगों ने पोर्टल पर पंजीकरण किया।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here