कस्टमर के साथ किए धोखे का अंजाम…: होटल में नहीं था स्वीमिंग पूल, कंज्यूमर कमीशन ने ऑनलाइन ट्रैवल कंपनी पर लगाया एक लाख रुपए जुर्माना

0
4


  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • The Hotel Did Not Have A Swimming Pool, The Consumer Commission Imposed A Fine Of One Lakh Rupees On The Online Travel Company.

चंडीगढ़38 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

कमीशन ने कंपनी को 20 हजार रुपए हर्जाना और 10 हजार रुपए मुकदमा खर्च अदा करने के निर्देश दिए। इसके अलावा कंपनी पर एक लाख रुपए जुर्माना भी लगाया।

  • कस्टमर ने कहा-होटल के ब्रॉशर में स्वीमिंग पूल देखकर उन्होंने करवाई थी बुकिंग, लेकिन नहीं मिली सर्विस

डिस्ट्रिक्ट कंज्यूमर कमीशन ने ऑनलाइन ट्रैवल कंपनी मेक माई ट्रिप पर एक लाख रुपए जुर्माना लगाया है। मोहाली के प्रीतपाल और उनकी पत्नी देविंदर कौर ने मेक माई ट्रिप की वेबसाइट से नेपाल का टूर बुक किया था। लेकिन जब वे नेपाल पहुंचे तो वहां होटल में वह सर्विस नहीं मिली तो बुकिंग के वक्त ब्रॉशर में दिखाई गई थी। होटल में स्वीमिंग पूल भी नहीं था। जिसके बाद उन्होंने कंपनी के खिलाफ कंज्यूमर कमीशन में शिकायत दी।

शिकायत में प्रीतपाल ने बताया कि उन्होंने 8 से 15 जून 2019 के लिए नेपाल का टूर बुक करवाया था। इसके लिए उन्होंने कंपनी को 66 हजार 661 रुपए अदा किए। ट्रिप के दौरान उन्हें काठमांडू और पोखारा में 4 स्टार होटल की कमिटमेंट की गई थी। लेकिन जब वे काठमांडू पहुंचे तो उन्हें वहां जो कार दी गई थी वह सेडान स्टैंडर्ड की नहीं थी। इसके बाद उन्हें पोखारा में 4 स्टार होटल जैसी सर्विस नहीं मिली।

होटल की लिफ्ट बंद पड़ी थी। वहां स्वीमिंग पूल भी नहीं था। जबकि होटल के ब्रॉशर में इन सभी सर्विसेज का जिक्र किया गया था। होटल की फूड सर्विस भी बेहद खराब थी। उन्होंने इस बारे मे होटल स्टाफ से बात की और मेक माई ट्रिप को भी ई-मेल के जरिए शिकायत दी। लेकिन जब कंपनी ने कोई कार्रवाई नहीं की तो उन्होंने कंपनी के खिलाफ कंज्यूमर कमीशन में केस फाइल किया।

कंपनी ने कमीशन में अपना पक्ष रखते हुए कहा कि ये विवाद कस्टमर और होटल के बीच का है। इसमें उनकी कोई जिम्मेदारी नहीं बनती है। इसलिए उन्होंने इस शिकायत को खारिज करने की मांग की। लेकिन कमीशन ने कंपनी को दलीलों को नहीं माना। कमीशन ने दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद कस्टमर के हक में फैसला सुनाया।

कमीशन ने कंपनी को 20 हजार रुपए हर्जाना और 10 हजार रुपए मुकदमा खर्च अदा करने के निर्देश दिए। इसके अलावा कंपनी पर एक लाख रुपए जुर्माना भी लगाया। जुर्माने की रकम कंपनी को कंज्यूमर कमीशन के कंज्यूमर लीगल एड अकाउंट में जमा करवानी होगी। कंपनी को 45 दिनों के अंदर इस आदेश का पालन करना होगा वरना कंपनी को 10 हजार रुपए अतिरिक्त हर्जाना भरना पड़ेगा।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here