एबीवीपी चंडीगढ़ ने उच्च न्यायालय के न्यायाधीश की देख रेख में निष्पक्ष जांच की मांग की; मंत्री साधु सिंह धर्मसोत को भी की पद से हटाने की मांग

0
2


चंडीगढ़22 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

प्रेस कॉन्फ्रेंस को चंडीगढ़ महानगर मंत्री अजय सूद, पंजाब प्रदेश सहमंत्री दीक्षा भनोट और पंजाब यूनिवर्सिटी इकाई सचिव प्रिया शर्मा ने संबोधित किया। (फोटो: अश्विनी राणा)

  • एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने कहा कि इस पूरे स्कैम में आरोपी मंत्री को साधु सिंह धर्मसोत को बचाने में पंजाब सरकार कोई कसर नहीं छोड़ रही है
  • मामले को लेकर एबीवीपी चंडीगढ़ ने बुधवार काे पंजाब यूनिवर्सिटी में मीडिया से बात की

पंजाब में एससी-एसटी स्टूडेंट्स को मिलने वाली पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप में हुए करोड़ों रुपए के स्कैम की एबीवीपी चंडीगढ़ ने निष्पक्ष जांच की मांग की है। एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने कहा कि इस पूरे स्कैम में आरोपी मंत्री को साधु सिंह धर्मसोत को बचाने में पंजाब सरकार कोई कसर नहीं छोड़ रही है। कार्यकर्ताओं ने साधु सिंह धर्मसोत को पद से हटाने की मांग भी की। साथ ही कहा कि स्कीम के तहत उन शिक्षण संस्थानों को भी पैसा आवंटित कर दिया गया जिन पर हाईकोर्ट ने रोक लगा रखी थी। इसलिए उन सभी शिक्षण संस्थानों से पोस्ट मैट्रिक स्कॉलरशिप स्कीम का पैसा वसूला जाए जिन्हें यह पैसा आवंटित किया गया है। मामले को लेकर एबीवीपी चंडीगढ़ ने बुधवार काे पंजाब यूनिवर्सिटी में मीडिया से बात की। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस को पंजाब प्रदेश सहमंत्री दीक्षा भनोट, चंडीगढ़ महानगर मंत्री अजय सूद,पंजाब यूनिवर्सिटी इकाई सचिव प्रिया शर्मा ने संबोधित किया।

जांच को किया गया प्रभावित

दीक्षा भनोट ने कहा कि जब से ये मामला उजागर हुआ है,तब से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने पंजाब में जिला स्तर पर पंजाब सरकार की इस करतूत का विरोध भी किया और राज्यपाल को जिला अधिकारियों के द्वारा ज्ञापन देकर इसकी जांच की मांग भी की थी लेकिन जांच के परिणाम से यह साफ पता लगता है कि उस जांच को प्रभावित किया गया है। बोलीं,पंजाब के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी कृपा शंकर सरोज की रिपोर्ट ने स्पष्ट कर दिया है कि इस घोटाले में सामाजिक न्याय, सशक्तिकरण एवं अल्पसंख्यक विभाग के मंत्री साधु सिंह धर्मसोत की भी मिली भगत है।

कांग्रेस के लिए महज वोट बैंक मैं दलित

वहीं एबीवीपी पंजाब यूनिवर्सिटी इकाई सचिव प्रिया शर्मा ने कहा है कि एडीशनल चीफ सेक्रेट्री की रिपोर्ट में करीब एक साल के घोटाले का पर्दाफाश हुआ है जो कि करीब 64 करोड़ है। अगर पिछले सालों के रिकॉर्ड की जांच की जाए तो यह घोटाला और भी ज्यादा हो सकता है। वह बोलीं, साधु सिंह धर्मसोत दलित समुदाय से ही हैं और बावजूद इसके उन्होंने दलित स्टूडेंट्स के साथ अन्याय किया है। प्रिया ने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने हमेशा ही दलितों को वोट बैंक की तरह इस्तेमाल किया है।

20 अक्टूबर को चंडीगढ़ में होगा प्रदेश स्तर का प्रदर्शन

एबीवीपी चंडीगढ़ महानगर मंत्री अजय सूद ने मामले की जांच की मांग उच्च न्यायालय के न्यायाधीश की देख रेख में की है। प्रदेश सचिव ने बताया के आगामी समय में पंजाब के सभी जिलों में प्रदेश सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन किए जाएंगे और 20 अक्टूबर को चंडीगढ़ में प्रदेश स्तर का एक प्रदर्शन किया जाएगा और इस बात को लेकर अभावी पंजाब के कार्यकर्ता सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री के पास भी जाएंगे। ये संघर्ष तब तक जारी रहेगा जब तक कि विद्यार्थियों को उनका हक और घोटाले में.शामिल लोगों को इसकी सजा नहीं मिलती।



Source link

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here