Advertisement

अनलॉक-5 में भी श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन में फैला सन्नाटा, रेलवे को हो रहा भारी नुकसान


श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन में अनलॉक -5 में भी यात्रियों की भीड़ नहीं जुट पा रही है.

अनलॉक-5 (Unlock-5) लागू होने के बाद भी श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन पर (Railway Stations) पर सन्नाटा पसरा है, लेकिन भविष्य में आने वाले त्योहारों (Festivals) में रेलवे स्टेशन फिर गुलजार होगा और यात्रियों की भीड़ बढ़ेगी.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 12, 2020, 5:12 PM IST

श्रीगंगानगर. कोरोना (Corona) काल में प्रदेश के रेलवे स्टेशन (Railway Stations) रौनक गायब हो गई है. अनलॉक-5 (Unlock-5) में लोगों को उम्मीद थी कि रेवले स्टेशन एक बार फिर गुलजार होंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. अब रेलवे (Railway) को आने वाले त्यौहारों में रेल यात्रियों के बढ़ने की उम्मीद है. इसलिए रेलवे ने आगामी सीजन में स्पेशल ट्रेन (Special Train) चलाने का फैसला किया है.

फिलहाल आज हम आपको  श्रीगंगानगर के रेलवे स्टेशन का हाल बता रहे हैं कि वैश्विक कोरोना महामारी कोरोना के दौरान देश भर में लागू लॉकडाउन और ट्रेनों के संचालन बंद होने के कारण यहां कई महीनों से सन्नाटा फैला है. हालांकि कोरोना काल के दौरान रेलवे ने श्रमिक स्पेशल ट्रेन, परीक्षा स्पेशल ट्रेन और अन्य स्पेशल ट्रेनों का सीमित समय के लिए संचालन कर परीक्षार्थियों के साथ-साथ आमजन को राहत प्रदान करने की कोशिश की थी.

रेलवे प्रशासन के द्वारा कोरोना काल में स्पेशल ट्रेनों के संचालन को परीक्षार्थियों के साथ आमजन ने भी खूब सराहा है. स्पेशल ट्रेन में यात्रा करने वाले यात्रियों ने ट्रेन यात्रा को किफायती और कोरोना प्रोटोकॉल के लिहाज से बेहद सुरक्षित सफर बताया है. कोरोना कॉल में संचालित परीक्षा स्पेशल और स्पेशल ट्रेन के संचालन को यात्रियों द्वारा सराहा तो खूब गया, लेकिन रेलवे को केवल 10% यात्री भार ही मिल पाया है. श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के अलावा अन्य ट्रेनो में रेलवे को अपेक्षित यात्री भार नहीं मिल पा रहा है.

Barmer: अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर महिला ने एक साथ 3 बेटियों को दिया जन्मरेलवे के रेवन्यू में आई भारी कमी
4 से  14 सितंबर तक 10 दिनों के लिए श्रीगंगानगर से कोटा के लिए संचालित स्पेशल ट्रेन में केवल 1433 यात्रियों ने सफर किया और श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन को ₹7,87,540 का रेवन्यू मिला. इस दौरान केवल 707 पार्सल पैकेज की बुकिंग हुई, जिससे श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन को माल भाडा के रूप में केवल 15404 रुपये का राजस्व मिला. इसी तरह 13 सितम्बर को श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन से NEET परीक्षार्थियों के लिए बठिंडा के लिए चलाई गई परीक्षा स्पेशल ट्रेन में केवल 693 यात्रियों ने सफर किया और श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन को ₹6,975 का रेवन्यू मिला.

वहीं UPSC परीक्षार्थियों के लिए 3 अक्टूबर को श्रीगंगानगर से जयपुर के लिए चलाई गई परीक्षा स्पेशल ट्रेन को भी केवल 166 यात्री मिले और श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन को 41,065 रुपए का रेवेन्यू मिला. श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन से चलाई गई स्पेशल ट्रेनों में रेलवे  को 10% यात्री भार भी नहीं मिल पाया और संभवतया यही वजह रही कि श्रीगंगानगर से कोटा- झालावाड़ के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन को 10 दिन चलाने के बाद बंद कर दिया गया.

आगामी त्योहारी सीजन को देखते हुए रेलवे ने एक बार फिर से श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन से कोटा-झालावाड़ के लिए कल 13 अक्टूबर मंगलवार से स्पेशल ट्रेन का संचालन शुरू करने का फैसला किया है. इस बार रेलवे को उम्मीद है कि त्योहारी सीजन के चलते एक तरफ यात्रियों को ट्रेनों के संचालन से बड़ी राहत मिलेगी वहीं दूसरी और त्योहारी सीजन के चलते रेलवे को इस बार ज्यादा यात्री भार मिलने की उम्मीद है.





Source link

Advertisement
sabhijankari:
Advertisement