Advertisement

अक्टूबर में डीजल बिक्री का आंकड़ा प्री-कोविड स्तर के पार पहुंचा, फेस्टिव सीजन का मिला सहारा


  • Hindi News
  • Business
  • Diesel Consumption In India October 2020 Data Update; Diesel Sales Rise Above Pre coronavirus COVID 19

नई दिल्ली17 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में डिमांड कम होने के बावजूद इमर्जिंग मार्केट और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में ग्रोथ है, जिसे भारत लीड कर रहा है।

  • देश में टोटल फ्यूल डिमांड में डीजल बिक्री की भागीदारी 40% की है
  • इस महीने डीजल की बिक्री पिछले महीने से 24% बढ़कर 2.65 मिलियन टन हो गई है

कोरोना संकट के बीच अक्टूबर में पहली बार डीजल बिक्री का आंकड़ा प्री-कोविड स्तर के पार पहुंच गया है। रॉयटर्स के मुताबिक, अनलॉक प्रक्रिया में मिल रही रियायतों और फेस्टिव सीजन से डीजल बिक्री को सहारा मिला है।

बिक्री में 8.8% की बढ़ोतरी

इंडियन ऑयल कॉर्प. द्वारा जारी डेटा के मुताबिक, अक्टूबर के पहले हाफ तक तीन सरकारी ऑयल कंपनियों की बिक्री सालाना आधार पर 8.8% बढ़ी है। देश में टोटल फ्यूल डिमांड में डीजल बिक्री की भागीदारी 40% की है। इस महीने डीजल की बिक्री पिछले महीने से 24% बढ़कर 2.65 मिलियन टन हो गई है। भारत के 90% रिटेल फ्यूल आउटलेट तीन सरकारी ऑयल कंपनियों के हैं। इसमें इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईओसी), हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) और भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) शामिल हैं।

ऑयल रिफाइनरी कंपनियों को भी मिलेगा सहारा

सरकारी कंपनी के एक अधिकारी का कहना है कि, डीजल की बिक्री बढ़ने से ऑयल रिफाइनरी कंपनियों को भी सहारा मिलेगा, जिनका कारोबार कोरोना महामारी के चलते सुस्त हो गया था। उन्होंने सतर्क भी किया है कि बिक्री में यह ग्रोथ अस्थाई भी हो सकती है। बता दें कि भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा ऑयल खरीदार और आयातक है।

अन्य बाजारों में ग्रोथ की संभावना

रॉयटर्स के मुताबिक, ट्रांसपोर्टेशन में अच्छी रिकवरी देखने को मिली है। क्योंकि फेस्टिव सीजन नजदीक है। डीजल और पेट्रोल की मांग बढ़ने से अन्य बाजारों में ग्रोथ को सहारा मिल सकता है। डेटा के मुताबिक, सालाना आधार पर पेट्रोल की बिक्री अक्टूबर के पहले हाफ तक 1.5% बढ़कर 9.82 लाख टन हो गई है। जबकि पिछले महीने की तुलना में 1.45% का इजाफा हुआ है।

सरकारी कंपनियों ने पिछले साल की तुलना में अक्टूबर के पहले हाफ में 7% अधिक यानी 1.17 मिलियन टन एलपीजी यानी कुकिंग गैस की बिक्री की है। जबकि जेट फ्यूल की बिक्री 57% बढ़कर 1.35 लाख टन रही।

वहीं, इंटरनेशनल एनर्जी एजेंसी (IEA) का कहना है कि बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में डिमांड कम होने के बावजूद इमर्जिंग मार्केट और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में ग्रोथ है, जिसे भारत लीड कर रहा है। बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में अमेरिकी, ब्रिटेन, जापान जैसे देश शामिल हैं।



Source link

Advertisement
sabhijankari:
Advertisement